loading...

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भोपाल जंक्शन के वीआईपी गेस्ट हाउस में उत्तर प्रदेश की एक लड़की को बुलाकर गैंगरेप के मामले में रेलवे के विभागीय अधिकारी राजेश तिवारी व अलोक मालवीय को दोषी पाते हुए उनकी सेवाएं समाप्त कर उन्हें पद से बर्खास्त कर दिया गया है पहले उन्हें सस्पेंड किया गया था। बता दे उनके मामले में एक टीम बनाई गई फिर इसके बाद दोनों आरोपियों ने दुष्कर्म की बात कबूली है।

क्या है पूरा मामला

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 26 सितंबर को बीआईपी गेस्ट हाउस में इंटरव्यू देने के बहाने लड़की को बुलाकर रेलवे के दो अधिकारियों द्वारा गैंगरेप की घटना को अंजाम देने के बाद आरोपियों को भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 6 से गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ में उन्होंने कबूल किया कि उन्होंने पीड़ित लड़की को भोपाल बुलाया जिसके बाद पीआईपी गेस्ट हाउस में ले जाकर युवती का नाश्ते का प्रबंध करते हुए उसके साथ इंटरव्यू लेने के बहाने सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। पूरे मामले में आरोपियों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया था। जिसके बाद जांच टीम गठित की गई। जिसमें पूरे मामले को सही पाते हुए आरोपियों को पद से बर्खास्त कर दिया गया है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here