loading...

उत्तर प्रदेश कोरोना काल की महामारी को भ्रष्टाचारियों ने महामारी को अवसर बनाकर जेब गर्म करना शुरू कर दिया। एक तरफ लोग मर रहे लेकिन सरकारी 28 सौ वाली किट का मार्केट से 5 गुना महंगी कीमतों में खरीदकर बिजनौर के स्वास्थ्य विभाग ने हैरान कर दिया। 2800 वाली इस सरकारी कीट को बिजनौर स्वास्थ्य विभाग ने 15750 रुपए में खरीदकर खरीद को नियम पूर्वक बताया। वहीं गाजीपुर ने किट को ₹13750 में, सुल्तानपुर ने 9950 रुपए व बाराबंकी के स्वास्थ्य विभाग ने इसे ₹8800 में खरीदा। बता दे कई जनपदों में थर्मामीटर और पल्स ऑक्सीमीटर की किट की खरीद में शासन की ओर से निर्धारित अधिकतम ₹2800 प्रति कीट से अधिक की खरीद के मामले सामने आ रहे हैं। पूरे मामले का खुलासा उस समय हुआ जब सुल्तानपुर में 28 सौ वाले इन कोविड-19 के उपकरणों को ₹9950 में खरीद होने के बाद विधायक देवमणि त्रिवेदी ने सवालिया निशान उठाते हुए मुख्यमंत्री को खत लिखा। गाजीपुर में यही उपकरण ₹5800 में खरीद के मामले को ले सुल्तानपुर वा गाजीपुर दोनों के डीपीआरओ को सस्पेंड कर दिया गया। अब इस पूरे मामले में बिजनौर के सीएमओ ने सहारनपुर की एक फार्म याशिका इंटरप्राइजेज से 8 अप्रैल 2020 को ऑर्डर देकर जीएसटी सहित 12390 रुपए प्रति दर से 12 इंफ्रारेड थर्मोमीटर खरीदे तथा सहारनपुर की फार्म आयुष इंटरप्राइजेज से 1 अप्रैल 2020 को ₹3360 प्रति पीस पल्स ऑक्सीमीटर खरीदें इन दोनों को जोड़ दिया जाए तो एक ऑक्सीमीटर की कीमत ₹15750 बैठती है वर्तमान समय में इन दोनों सामानों की ऑनलाइन कीमत की बात की जाए तो दो हजार से पच्चीस सौ के बीच आसानी से मिल जाएंगे। वहीं प्रशासन द्वारा बताया जा रहा है कि हमारे यहां जैम पोर्टल के अनुसार खरीद की गई है इसलिए इसमें कोई गड़बड़ी का मामला ही नहीं है। वही बिजनौर के सीएमओ डॉ विजय कुमार यादव के मुताबिक यह सही है इन दरों पर इंफ्रारेड थर्मामीटर व पल्स उस समय इसी न्यूनतम पर उपलब्ध थे। उस समय के अनुसार ही इसे खरीदा गया। उस समय इन वस्तुओं की बाजार में उपलब्धता नहीं थी वस्तु की खरीद में नियमों का सही से पालन किया गया है। वरिष्ठ कोषाधिकारी सूरज कुमार ने स्वीकार किया है कि कुछ जगातील में लेट सामान्य से ज्यादा नजर आ रहे हैं लेकिन यह जैम पोर्टल के अनुसार बताए गए हैं वहा इसको जैम पोर्टल पर भी क्रश चेक कर रहे हैं पूरी समीक्षा के बाद रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपी जाएगी।

बता दे कोविड-19 महामारी के दौरान कोविड-19 उपक्राण की खरीद में बड़े स्तर पर अनियमितताएं पाई गई हैं सुल्तानपुर व गाजीपुर में अनियमितता पाई जाने के बाद दोनों जगह के सीएमओ को तत्काल सस्पेंड किया जा चुका है किस आधार पर बिजनौर व गाजीपुर में इसे किस सही बताया जा रहा है वह भी एक जांच का विषय है पूरे मामले में जांच के बाद अनियमितताओं से पर्दा उठ बड़े घोटाले का खुलासा होने के आसार है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here