किसान बिल के विरोध में किसानों का देश भर में जोरदार प्रदर्शन कहीं रेलवे ट्रैक पर बैठे किसान तो कहीं रोड जाम कर पराली जला कर रहे विरोध कहीं पर प्रशासन किसानों की आवाज कुचलने पर आमादा उत्तर भारत से लेकर पंजाब हरियाणा तक किसानों का जोरदार प्रदर्शन,

कृषि बिलों के खिलाफ आज किसानों के भारत बंद असर देखने को मिलने लगा है किसानों के इस विरोध को विपक्ष के कई दलों का समर्थन मिल रहा है किसान सरकार के इस बिल्कुल काला बिल बताकर लगातार विरोध कर रहे हैं कृषि विधेयक के खिलाफ शुक्रवार यानी आज कई किसान संगठनों के साथ राष्ट्रव्यापी बंद बुलाया गया है जिसमें अखिल भारतीय किसान संघ और समन्वय समिति अखिल भारतीय राष्ट्रीय महासंघ और भारतीय किसान यूनियन के साथ किसान व मजदूरों के संगठन के साथ विपक्षी नेताओं का भी किसानों का लगातार समर्थन मिल रहा है

किसान बंद के चलते पंजाब हरियाणा के साथ बिहार के राजमार्ग प्रभावित दिखने लगे हैं कई जगह पर रेलवे ट्रैक से लेकर रोड तक किसान विरोध प्रदर्शन कर बैठे हुए हैं वहीं बाराबंकी लखनऊ मार्ग पर किसानों ने सरकार की नीतियों का तानाशाही पूर्ण नीति बताते हुए जमकर पराली जलाकर विरोध जताते हुए सरकार विरोधी नारेबाजी की बता दे सरकार ने हाल ही में संसद में कृषि संबंधी 3 विधेयक पास किया है जिसको लेकर प्रधानमंत्री से लेकर कृषि मंत्री तक ने किसान के हित में होने की बात कही है

लेकिन लगातार किसान संगठन इस विधेयक का विरोध कर रहे हैं पंजाब हरियाणा बिल का जबरदस्त विरोध देखा जा रहा है वहां पर बंद के दौरान किसानों को प्रति नरम रवैया अपनाए जाने का आदेश दिया गया है साथ में एंबुलेंस सेवा के साथ पैरामेडिकल स्टाफ को भी तैयार रहने को कहा गया है किसी भी दशा में प्रदर्शन के दौरान अपनी घटना होने की स्थिति में तुरंत डॉक्टर सुविधा उपलब्ध कराई जाए।

दिल्ली में भी होगा बिल के विरोध में किसानों का प्रदर्शन

पूरे देश में पुरजोर विरोध के साथ ही राजधानी दिल्ली में भी किसानों का प्रदर्शन होगा जानकारी के मुताबिक कांग्रेसी लेकर आम आदमी पार्टी तक दोपहर 12:00 बजे जंतर-मंतर पर किसानों का बिल लेकर प्रदर्शन करते हुए नजर आएंगे यूथ कांग्रेस ने गुरुवार की शाम को किसान मशाल जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन का आगाज किया था लोकसभा और राज्यसभा में बिना वोटिंग तानाशाही पूर्ण तरीके से पास कराए गए इस बिल को लेकर विपक्ष से लेकर किसान संगठनों द्वारा इसे किसानों का शोषण करने वाला बिल करार देकर लगातार विरोध किया जा रहा था आज किसानों ने भारत बंद का आवाहन किया है पंजाब हरियाणा समेत देश के अधिकतर किसान संगठन इस बिल के विरोध में है लगभग देश के बड़े 31 किसान संगठनों ने भारत बंद का समर्थन कर सरकार से किसान विरोधी बिल वापस लेने की अपील की है। दूसरी तरफ सरकार द्वारा इसे पूरी तरीके से किसान के पक्ष में बताया जा रहा है

सत्ताधारी पार्टी के मंत्री से लेकर पदाधिकारी तक इस बिल पर राजनीति करते हुए विपक्ष द्वारा गुमराह कर जनता को बहकाने का आरोप लगाया जा रहा है।

पंजाब के किसानों ने भी विरोध करते हुए 3 दिनों तक रेल यातायात ठप करने का किया ऐलान

इस बिल का पंजाब हरियाणा में काफी विरोध देखा जा रहा है गुरुवार को किसानों ने 3 दिन तक यातायात ठप कर इस बिल का विरोध करते हुए बड़ी संख्या में रेलवे लाइन ऊपर बैठकर सरकार के रुख के खिलाफ नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन कर सरकार से इस काले कानून को वापस लेने का आवाहन करते हुए चेतावनी दी गई।

अगर सरकार ने उनकी बात नहीं सुनी तो 1 अक्टूबर से अनिश्चित काल के लिए रेलवे यातायात ठप कर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा पंजाब में किस इस बिल को लेकर किसान लगातार आक्रामक रुख अपनाते हुए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं फिलहाल किसान संगठनों द्वारा भी पूरे विरोध प्रदर्शन को शांतिपूर्ण तरीके से करने का ऐलान किया गया है शासन प्रशासन से लेकर हर जगह पर अहिंसा पूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने की अपील की गई है

पूरे मामले पर हरियाणा के गांव मंत्री अनिल विज ने प्रदेश के आला अधिकारियों से चर्चा करते हुए डीजीपी को निर्देश दिया कि किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पुलिस बल को तैयार रखा जाए वही पंजाब की कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विरोध प्रदर्शन में भाग लेते हुए सभी को कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए दूरी बनाकर कानून व्यवस्था का पालन करते हुए विरोध प्रदर्शन करने की अपील की।

लगातार कांग्रेस कर रही बिल का विरोध

कृषि बिल के विरोध में किसानों के भारत बंद का विपक्षी पार्टी कांग्रेस द्वारा पूर्ण रुप से समर्थन कर साफ किया गया है कि इस बंद में लाखों कांग्रेसी कार्यकर्ता किसानों के विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे इस को लेकर कांग्रेस के पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा मोदी सरकार किसानों के खेत पर लात मार रही है जिसे उनकी पार्टी द्वारा किसी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा उन्होंने ट्वीट करते हुए दावा किया कांग्रेस पार्टी पूरी तरह किसानों के हित में खड़ी और भारत बंद का समर्थन कर रही है उन्होंने ताकि देश के हर राज्य में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ने भी भारत बंद का समर्थन किया है पंजाब यूपी-बिहार हरियाणा समय देश के अलग-अलग राज्यों में भारत बंद का असर के साथ किसान सरकार से बिल वापस लेने की मांग करते हुए लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

राजधानी लखनऊ-बाराबंकी की सीमा में किसानों ने पुआल जलाकर किया विरोध

राजधानी लखनऊ और बाराबंकी की सभी सीमाओं पर भारतीय किसान यूनियन के संगठनों समेत कई जगह पर किसानों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए इसे सरकार की तानाशाही करार देते हुए कृषि म बिंलो को वापस ले या फिर उन बिलों में न्यूनतम समर्थन मूल्य से नीचे किसान का कोई भी उत्पाद नहीं बिकेगा की गारंटी के प्रावधान की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन किया किसानों का तर्क है सरकार इस बिल के माध्यम से पूंजी पतियों को और अमीर गरीब के पेट पर लात मारकर उसे और गरीब बना उसकी रोजी-रोटी छीनने का काम कर रही है।

हालांकि सरकार द्वारा लगातार इस बिल को किसान के हितकारी बताया जा रहा है। सरकार का तर्क है कि कुछ गुमराह कर रहा है।

आरजेडी का अनोखा विरोध प्रदर्शन

बिहार किसान कानून के खिलाफ तेजस्वी यादव ने ट्रैक्टर चलाकर उसके छत पर तेज प्रताप यादव को दाल लेकर बैठ कर आरजेडी का बिहार में विरोध प्रदर्शन

राजधानी में सुरक्षा के कड़े इंतजाम दूसरी तरफ सीमा के चारों ओर डटे प्रदर्शनकारी किसान

राजधानी लखनऊ में घुसने से किसानों को रोकने के लिए जगह-जगह तैनात किए गए सुरक्षा बल राजधानी से लेकर यूपी में जगह-जगह भारतीय किसान यूनियन के संगठनों नारेबाजी करते हुए जमकर किसान के खिलाफ लाए गए।

इस इस बिल का विरोध किया प्रयागराज बरेली बाराबंकी लखनऊ समय जगह जगह पर भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले केंद्र सरकार के खिलाफ किसानों ने हल्ला बोल प्रदर्शन किया

जिसकी वजह से कई जगह पर ट्रैफिक व्यवस्था भी चरमरा गई।

संसद में लाए गए विवादित बिल पर जोरदार देशभर में हल्ला बोल किसान प्रदर्शन कर रहे विपक्ष को बैठे-बैठे मुद्दा मिल गया दूसरी तरफ किसान लगातार सरकार के इस रवैए को तानाशाह पूर्ण करा देते हुए सरकार को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं, जानकार कह रहे हैं इस बिल को लाकर लगता है सरकार ने अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारने का काम किया है लेकिन लगातार सरकार इस बिल को किसान के लिए हितकारी बता रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here