छत्तीसगढ़ (कोंडागांव)- देश में लगातार दरिंदगी की वारदातें थमने का नाम नहीं ले रही, उत्तर प्रदेश के हाथरस बलरामपुर व छत्तीसगढ़ के बलरामपुर, राजस्थान के बाड़मेर में नाबालिक के साथ दरिंदगी के मामले सुर्ख़ियों से हटे ही नहीं थे कि छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्र बस्तर संभाग के कोंडागांव जिले के केशकाल क्षेत्र के ओड़ागांव से हैवानियत की दर्दनाक दास्तां सामने आई हैं। जहां करीब 3 माह पहले कानागांव में आयोजित शादी समारोह में गई हुई युवती से वह देर रात नाच गाने के बीच कानागांव और फूंडेर गांव के 7 युवकों ने शादी वाले घर से अचानक पीड़िता को उठा जंगल ले जाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम देते हुए पूरा मामला किसी से बताने पर जान से मार देने की धमकी देते हुए छोड़ कर चले गए। इस घिनौनी वारदात की जानकारी पीड़िता ने लौटकर अपने सहेली व परिजनों से पुरे मामले की बात साझा की, परिजनों ने पूरे मामले की जानकारी पुलिस को देते हुए न्याय की गुहार लगाई। लेकिन स्थानीय पुलिस ने पूरे मामले को रफा-दफा करने की कोशिश करते हुए कोई बात नहीं मानी, दूसरी तरफ दरिंदगी की शिकार पीड़िता ने परेशान हो दूसरे दिन आत्महत्या कर ली। परिजनों ने भी दबाव में आकर तत्काल शव को लोक-लाज व कानूनी पचड़े से बचने के लिए आनन-फानन में बिना किसी को सूचना दिए दफन करवा दिया। क्योंकि बार-बार थाने आते जाते थे। लेकिन सुनवाई ना होने के चलते परेशान हो चुके थे।

कोंडागांव न्याय न मिलने से परेशान पीड़िता ने पहले की आत्महत्या, रविवार को पिता ने भी की आत्महत्या की असफल कोशिश

बता दे पूरा मामला जुलाई माह के पहले सप्ताह का है पीड़िता का पिता पूरे मामले में पुलिस के रवैए से परेशान हो 4 अक्टूबर रविवार को कीटनाशक पीकर आत्महत्या करने की कोशिश की। जिसके बाद पूरा मामला सामने आया, पूरे मामले की जानकारी के बाद परिजनों ने उसे तत्काल हॉस्पिटल में भर्ती कराया जहां उसका इलाज चल रहा था इस बीच हताश परेशान हो पिता बिना किसी को जानकारी दिए हाथ में बिगों लगे कहीं चला गया। परिवारवालों के मुताबिक पिता अपनी बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद अकाल मौत से सदमे में था। जिसके चलते उसने अपनी जीवन समाप्त करने की कोशिश की, परिजनों ने बताया बिना किसी कारण आत्महत्या करने की वजह कि जब खोजबीन की तब बेटी की दुष्कर्म के बाद आत्महत्या की कहानी खुलकर सामने आई जिसके बाद पूरे मामले की जानकारी दी।

पुलिस पर गंभीर आरोप

बता दे पूरी वारदात छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले के केशवकाल के ओड़ागांव की है। जहां जुलाई माह के प्रथम सप्ताह में शादी में गई युवती के साथ 7 लोगों ने अगवा कर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। पूरे मामले में शिकायत करने के बाद पुलिसिया लापरवाही के चलते युवती ने आत्महत्या कर ली पूरा मामला 7 तारीख को उस समय प्रकाश में आया। जब पीड़िता के पिता ने विगत रविवार को घर में रखा कीटनाशक खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की, बिना कारण आत्महत्या करने के प्रयास के बाद परिजनों ने जब पूरे मामले की जांच की तब पूरा वाकया सामने आया पीड़िता की सहेली ने भी पूरा मामला विस्तार से बताया जिसके बाद शिकायत की गई, पूछताछ में पीड़ित के परिजनों ने बताया कि पिछले 3 महीनों से लगातार शिकायत की जा रही थी। पुलिस ने विगत 3 महीने में न दुष्कर्म का मामला दर्ज किया न किसी तरह की जांच की। जिसके बाद मजबूर होकर पीड़िता ने आत्महत्या कर ली। रविवार को पीड़िता के पिता ने भी कीटनाशक पीकर आत्महत्या करने की कोशिश की। इसके बाद पूरा मामला स्थानीय मीडिया आने के बाद परिजनों की शिकायत व प्रत्यक्षदर्शी मृतक की सहेली की शिकायत के बाद बुधवार को पुलिस हरकत में आई।

मृतक पीड़िता के पिता की आत्महत्या की कोशिश के बाद, मामला मीडिया में आने पर बुधवार को हरकत में आई पुलिस

पूरे मामले के 3 माह बीत जाने के बाद भी पुलिस का रवैया ढुलमुल रहा लगातार शिकायत मिलने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। रविवार को परेशान होकर पीड़िता के पिता द्वारा कीटनाशक पीकर आत्महत्या करने की कोशिश के बाद, पूरा मामला शिकायत के साथ मीडिया में आने के बाद, नई शिकायत के आधार पर पुलिस ने पूरे मामले में शिकायतकर्ता व मृतक की प्रत्यक्षदर्शी सहेली की शिकायत के बाद बुधवार को हरकत में आई। पुलिस अफसरों के मुताबिक पूरे मामले में नई शिकायत के बाद युवती के शव को कब्र से निकलवाया गया है। युवती के शव का पोस्टमार्टम करवा कर पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा इस मामले में खबर है कि तीन आरोपियों को हिरासत में लिया गया है।

पीड़िता की सहेली ने बयां किया पूरा मामला

पूरे मामले पर पीड़िता की सहेली ने बताया कि 3 महीना पहले वह और उसकी सहेली कानागांव के एक शादी समारोह में साथ गई थी। शादी में देर रात तक नाच गाना चला, इसी बीच कानागांव और फूंडेर गांव के सात युवकों ने अचानक देर रात शादी वाले घर से उसकी सहेली को उठा कर जंगल जंगल की तरफ लेकर भाग गए। जिसके बाद सहेली के साथ दुष्कर्म किया गया। मृतक पीड़िता की सहेली ने बताया कि वहां से लौटने के बाद उसकी सहेली ने उसके साथ हुई पूरी घटना की जानकारी दी। उसने कहा कि दुष्कर्म करने वाले युवकों ने घटना की जानकारी किसी को देने पर जान से मार देने की धमकी दी थी। घटना के 2 दिनों के बाद उसकी सहेली ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

मीडिया में तूल पकड़ने के बाद शव कब्र से निकलवा कर, पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया।

दूसरी तरफ पूरा मामला मीडिया में तूल पकड़ने के बाद पुलिस सक्रिय हुई मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी सिद्धार्थ तिवारी ने मामले पर नजर रख बुधवार को डीआईजी काकेंर व पुलिस अधीक्षक के साथ मौके पर बहुत परिजनों से मिलकर शव निकलवाने की कार्रवाई की। पूरे मामले पर एसपी कोडा़गांव सिद्धार्थ तिवारी के मुताबिक युवती की आत्महत्या की सूचना पुलिस को नहीं दी गई थी। किसी भी तरह के आरोपों की पुष्टि के लिए शव परीक्षण जरूरी है

हैवानियत के मामले के सामने आने पर भाजपा ने छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार को कोसा, राहुल प्रियंका पर साधा निशाना

पूरी हैवानियत के बाद पीड़ित को न्याय न मिलने के बाद आत्महत्या व सामूहिक दुष्कर्म मामले को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि धनोरा का मामला पीड़ादायक वा दुखद है प्रदेश सरकार की गंभीर विषयों पर उदासीनता के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद है गरीब परिवार की बेटी के साथ हैवानियत की गई जिसके बाद न्याय न मिलने के चलते मजबूरी में मौत को गले लगाने को मजबूर कर देने वाली भूपेन सरकार अपराध रोकने में असफल है यह सरकार पर कलंक है उन्होंने आगे कहा कि जब मामला पुलिस तक पहुंचा तो पुलिस प्रशासन ने भी पूरे मामले में गंभीरता नहीं दिखा कर मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की। जिसका परिणाम हुआ कि पीड़ित के पिता ने भी न्याय मिलने की आस छोड़ कर मौत को गले लगाने की कोशिश की। जो कि दुखद है। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा जिन पुलिस वालों ने गरीब परिवार के साथ अन्याय किया उनकी तत्काल जांच कर उन्हें निलंबित किया जाए। मुख्यमंत्री (भूपेश बघेल) का न्याय का नारा खोखला साबित हुआ है। वहीं उन्होंने आगे राहुल व प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए कहा छत्तीसगढ़ की अपनी निकम्मी प्रदेश सरकार को जगाने के लिए राहुल गांधी व प्रियंका गांधी कुछ तो कदम उठायें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here