उत्तर प्रदेश एक बार फिर गैंगरेप की घटना से शर्मसार हुआ है 14 सितंबर की सुबह 9:30 बजे 19 वर्षीय लड़की खेत में मां के साथ सुबह चारा लेने गई बच्ची को पहले से घात लगाए बैठे चार उच्च वर्ग के दरिंदों ने पकड़ कर बाजरे के खेत में लेजाकर उसके साथ एक-एक कर दरिंदगी करते हुए अपनी हवस का शिकार बना दरिंदगी की हदें पार कर उसकी रीड की हड्डी दौड़ते हुए शरीर के नाजुक अंगों को बेहद घातक जख्म पहुंचाए।

जिन जख्मों को झेलते हुए घटना के 15 दिन बाद दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में पीड़िता अंतिम सांस भी हार गई। शुरुआत से ही पूरे मामले में परिजन पुलिस पर कार्यवाही न करने का गंभीर आरोप लगाते रहे हैं।

इस घटना के विरोध में देशभर में लोगों का गुस्सा सोशल मीडिया से लेकर सड़कों पर निकल रहा है। मंगलवार शाम बड़ी संख्या में लोगों ने हाथ में मशाल लेकर दरिंदों को फांसी देने की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन कियहै।

जेल भेजे जा चुके चारो दरिंदे

पीडि़ता के गांव वालों के साथ प्रदर्शनकारी भी पुलिस की थ्योरी पर सवालिया निशान उठाते हुए गुमराह करने का गंभीर आरोप लगा पूरा मामला रफा-दफा करने की बात कर रहे हैं, फिर हाल हाथरस पुलिस पूरे मामले में पहले पीड़िता के अंगों जीभ काटने की घटना से इंकार कर रही है।

अब मेडिकल रिपोर्ट का हवाला दे हाथरस पुलिस गैंगरेप की घटना से भी इंकार कर रही है।

दिल्ली से लेकर लखनऊ समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में भारी विरोध प्रदर्शन

हाथरस की बिटिया के साथ दरिंदगी के बाद मौत से दुखी लोगों ने राजधानी दिल्ली से लेकर हाथरस लखनऊ समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में भारी आक्रोश करते हुए विरोध प्रदर्शन कर मशाल जुलूस भी निकाला इस घटना से पूरे देश के लोगों में गुस्सा नजर आ रहा है।

जेल भेजे जा चुके चारो दरिंदे

लोग जल्दी आरोपियों को सजा देने की मांग कर रहे हैं। बता दे हाथरस के चिनप्पा क्षेत्र की अनुसूचित जाति की लड़की के साथ 14 सितंबर को सामूहिक दुष्कर्म की घटना उनके परिजनों के मुताबिक हुई थी जिसके बाद मंगलवार सुबह घटना के 15 दिन बाद पीड़ित का दिल्ली में इलाज के दौरान निधन हो गया इस घटना में कई सनसनीखेज एंगल भी है लगातार परिजन से लेकर लोग पुलिस की थ्योरी पर सवाल उठा रहे हैं सब के अलग अलग एंगल अलग अलग थ्योरी है। फिलहाल देश में गैंग रेप की बढ़ती वारदात साथ-साथ केस के बाद गम के साथ घटना के विरोध का माहौल है।

हाथरस के लोगों ने इस घटना के विरोध में जाम लगाकर जुलूस निकालते हुए विरोध प्रदर्शन किया विरोध के चपेट में आया मुख्य रूप से तालाब चौराहे पर 2 घंटे तक यातायात बाधित रहा आक्रोशित लोग सड़क पर लेट कर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर अपना विरोध जताते रहे दूसरी तरफ कुछ अधिकारियों ने पहुंचकर लोगों को समझा-बुझाकर जाम खुलवाने में सफलता हासिल की। बता दे घटना के विरोध में बाल्मीकि समाज के लोगों के साथ कांग्रेस के जिला अध्यक्ष चंद्र गुप्ता विक्रमादित्य और अन्य नेताओं ने पहुंचकर जुलूस मसाल प्रदर्शन निकालकर विरोध प्रदर्शन करते हुए तालाब चौराहे के पास विरोध करते हुए निकलने लगे तालाब चौराहे पर आते ही प्रदर्शनकारियों ने बीच सड़क पर बैरिंग रख जाम लगा दी। प्रदर्शनकारी सुबे की योगी सरकार पर लगातार आक्रामक रुख अपना कर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी शुरू करते हुए सड़क पर लेट गए इस नारेबाजी के बीच जाम में लगातार वाहन फंसे रहे। सड़क जाम की सूचना मिलते ही एसडीएम सदर प्रेम प्रकाश मीणा ने पहुंचकर लोगों को समझाते बुझाते हुए जाम खुलवाया।

प्रयागराज में विरोध जताते लोगों की तस्वीरें

धरने पर बैठी कांग्रेस नेता पीएल पुनिया

बिना बताए एंबुलेंस में शव लेकर गई यूपी पुलिस

मृतक के पिता के मुताबिक उन्हें बिना बताए यूपी पुलिस उनकी पुत्री का शव लेकर चली गई उन्हें दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश पुलिस अस्पताल से पीड़िता के शव को लेकर गई है।

इसके बाद पीड़िता के पिता चाचा व भाई ने सफदरजंग हॉस्पिटल के बाहर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। पीड़िता के पिता ने बताया चार दरिंदों ने उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया विरोध करने पर बच्ची के साथ आरोपियों ने बर्बरता पूर्वक मारपीट की व पीड़ित की जीभ काट ली बता दे पूरे मामले में चारों आरोपीयों को गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुका हैं।

पूरे मामले पर नेताओं के साथ जनता की प्रतिक्रिया

दिल्ली से लेकर हाथरस लखनऊ तक भारी विरोध प्रदर्शन बता दे 19 वर्षीय पीड़िता की मौत के बाद दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल के साथ विजय चौक वाह हाथरस में सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ नेताओं ने न्याय की गुहार लगाते हुए विरोध प्रदर्शन कर धरना शुरू कर दिया दिल्ली सफदरजंग हॉस्पिटल के बाहर भीम आर्मी व कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जोरदार भारी प्रदर्शन करते हुए न्याय की मांग की दूसरी तरफ सोशल मीडिया के जरिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पूरे मामले को लेकर ट्विटर पर आक्रमक रुख अपनाते हुए ट्वीट करते नजर आए…..

उनसे एक कदम आगे बढ़कर कांग्रेस के महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर लिखा….

पूरे मामले पर समाजवादी पार्टी ने राजधानी लखनऊ से लेकर अलग-अलग जगह पर विरोध प्रदर्शन किया….

अपने आप को दलित समुदाय का नेता कहने वाली भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर (रावण) आजाद ने ने कहा बा दलित समुदाय के सभी सदस्यों से अपील करते हैं कि सड़कों पर उतर कर दोषियों को मौत की सजा देने की मांग करें उन्होंने बताया सरकार को हमारे धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए, जब तक दोषियों को फांसी नहीं दी जाती तब तक हम सभी चैन से नहीं बैठेंगे।

पुलिस ने पूरे मामले में कई एंगल देते हुए प्रेस नोट जारी किया जिसको जैसे का तैसा समझने के लिए लिख रहे हो उसको पढ़कर आप पूरे मामले के एंगल को समझने की कोशिश करिएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here