loading...


बता दे दुनिया भर के डेढ़ दर्जन से अधिक मीडिया संस्थानों द्वारा दावा किया गया है कि दुनिया भर की सरकारों द्वारा पत्रकारों और एक्टिविस्ट की जासूसी कराई जा रही थी। वैसे केंद्र की मोदी सरकार द्वारा प्रदेश के कई मीडिया संगठनों बड़े पत्रकारों के जासूसी कराए जाने के गंभीर आरोप लगे हैं यह कोई पहली बार नहीं है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे और अमित शाह गुजरात राज्य के गृहमंत्री थे तभी उनपर कई नेताओं और अधिकारियों के फोन टाइपिंग के गंभीर आरोप लगे थे। 2005 में मोदी विरोधी गोवर्धन कांग्रेसी नेता अर्जुन, शक्ति सिंह गोहिल शंकर सिंह बघेल का फोन मोदी और अमित शाह द्वारा टाइपिंग कराए जाने के आरोप लगे थे जिनकी जांच की मांग भी की गई थी दूसरा मामला 2011 का है जब कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गोहिल समेत कई नेताओं के फोन टैप करवाए गए थे, वही सन 2013 में नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा अहमदाबाद में एटीएस एसपी जीएल सिंघल के बीच हुई ऑडियो से आरोप लगा था कि अमित शाह ने सिंगल को एक आर्किटेक्चर लड़की की एक एक मिनट की जानकारी देने का आदेश दिया था इसे लेकर काफी हंगामे के साथ बवाल मचा था, कांग्रेश द्वारा जांच की मांग की गई थी। उसके बाद 2016 में दिल्ली के तत्कालीन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा गुजराती महिला की जासूसी मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व अमित शाह की जांच की मांग की गई थी।

loading...

इजरायली जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस दारा जासूसी किए जाने के खुलासे के बाद भारत समेत पूरी दुनिया में खलबली मची हुई है बता दे इजराइल का ताकतवर जासूसी सॉफ्टवेयर पूरी दुनिया भर की जासूसी कर सकता है इजरायली कंपनी एनएसओ किस सैनिक ग्रेड पेगासस सॉफ्टवेयर से दुनिया के 50 देशों की सरकारों के उपयोग किए जाने की जानकारी प्राप्त हुई है इन सरकारों द्वारा 50,000 से अधिक लोगों की जासूसी किए जाने की लंबी सूची आने के बाद बवाल होना लाजिमी था जो शुरू हो चुका है एक जासूसी मालवीय है जो आईफोन और एंड्रॉयड मोबाइल उपकरणों को प्रभावित कर डाटा चोरी करते हुए जासूसी को अंजाम देता है यह यूजर के संदेश फोटो मेल कॉल रिकॉर्डिंग फोन रिकॉर्डिंग माइक्रोफोन सकरी करते हुए जासूसी घटना को अंजाम दे छोटी से छोटी जानकारी को एकत्र करता है। भारत में 300 नंबरों की टाइपिंग होने की जानकारी प्राप्त हुई है इनमें दो केंद्रीय मंत्रियों समेत विपक्षी नेता राहुल गांधी के 2 मोबाइल फोन को भी टाइप किए जाने का सनसनीखेज दावा किया गया हैं

जासूसी की रिपोर्ट का दावा करते हुए द वायर निक्की रिपोर्ट जारी की गई है जिनमें मुख्य विपक्षी नेता राहुल गांधी के दो मोबाइल फोन समेत 300 भारतीयों के नंबर यूनेस्को की सूची में शामिल थे यानी कि इनकी जासूसी की गई या कंपनी पेगासस सॉफ्टवेयर बनाकर उसके जरिए सरकार रुको बेचकर जासूसी का कार्य करते हैं दवाई अपनी रिपोर्ट में दावा करते हुए बताया केंद्र कि मोदी सरकार ने इजरायली सॉफ्टवेयर की मदद से फोन टाइपिंग और देश के कई नामी पत्रकार नेता एक्टिविस्टों की जासूसी करवाई है। रिपोर्ट के मुताबिक पेगासस के जरिए चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के फोन की भी जासूसी की गई इस सूची में ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी पर्सनल सिक्योरिटी के साथ एक करीबी का फोन का ऐप किया गया है यही नहीं वेबसाइट के दावे के मुताबिक मौजूदा आईटी और रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव जनशक्ति राज्य मंत्री पहलाद सिंह केवी नंबर इस जासूसी वाली सूची में शामिल है इसके अतिरिक्त 40 से अधिक पत्रकारों के नाम शामिल हैं। जबकि वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट है कि 189 पत्रकारों 600 से अधिक राजनेता व सरकारी अधिकारियों की अतिरिक्त 60 से आदि के नाम शामिल हैं अभी तक यह नहीं पता चला है कि फोन टाइपिंग के जरिए किसकी क्या जासूसी हुई हैं।

loading...

क्या है पेगासस सॉफ्टवेयर का मामला आसान भाषा में समझे

loading...

इजराइल की कंपनी है जिसका नाम है एनएसओ इसमें एक स्पाइवेयर बनाया है जो कि एक छोटी सी फाइल होती है जो शिकार यानी आपके फोन में ऑटोमेटिक इंस्टॉल हो जाती है और फिर आपके फोन की जासूसी इसके द्वारा शुरू हो जाती है इसमें फोन कॉल मी डाटा वॉइस कॉल ऑडियो वीडियो व्हाट्सएप लोकेशन समेत स्मार्टफोन के सभी डाटा को कनेक्ट कर आपकी जासूसी की जाती है साधारण शब्दों में बता दें कि इजरायली जासूसी कंपनी एन एस ओ अपने इस जासूसी सॉफ्टवेयर को केवल सरकारी एजेंसियों के साथ होता है सरल शब्दों में कहें यह केवल सरकारी बसों के साथ काम करता है इसलिए गोपनीयता बरकरार रहती है कई देशों की सरकारों की हाथ इस कंपनी ने अपने इस सॉफ्टवेयर को भेज रखा है जिनके जरिए लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला करते हुए विभिन्न तरीकों से लीगल लीगल जासूसी करवाई जाती है।

इजराइली जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस को लेकर कांग्रेश ने सरकार पर सवाल उठाते हुए लगातार प्रहार कर 6 सवाल दागे हैं.. … देखिए काग्रेस द्वारा लगाए गए गंभीर आरोप

इजरायली जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए जासूसी कराए जाने के गंभीर आरोप के बाद पूर्व आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद में सफाई जारी कर सरकार का बचाव किया….

क्रेडिट- संबंधित टि्वटर अकाउंट धारियों के साथ…

विशाल गुप्ता की रिपोर्ट

loading...