राजस्थान के बारा में दो सगी 13 व 15 वर्षीय नाबालिक बहनों को परिचितों द्वारा बहला-फुसलाकर जयपुर कोटा समेत अलग-अलग शहरों में 3 दिन तक ले जाकर करीब 5 लड़कों के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने का मामला सामने आया है। पीड़िता ने बयान बदलते हुए बताया कि 5 लड़कों ने उनके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देते हुए धमकी दी कि परिजनों और पुलिस वालों को कुछ भी बताया तो तुम्हें और तुम्हारे मां बाप को मार देंगे। बहरहाल पुलिस के मुताबिक मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है, पीड़िता ने भी प्रथम बयान में दुष्कर्म के आरोपों को नकारा है। वहीं पीड़िता के पिता ने दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए नाबालिक लड़कियों को बहला-फुसलाकर धमकी देकर बयान बदलवाने के साथ गैंगरेप की घटना के गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़िता के पिता के मुताबिक 18 से 23 सितंबर तक आरोपी दोनों नाबालिग बहनों को कोटा जयपुर में ले जाकर उनके साथ दरिंदगी की घटना को अंजाम दिया। उन्होंने इसलिए पुलिस को कुछ भी नहीं बताया क्योकि उन्हें दरिंदों द्वारा कुछ भी बताने पर जान से मारने की धमकी दी गई थी। वहीं पुलिस ने पूरे मामले में लापरवाही भरा रुख अपनाते हुए लड़कियों को साखी केंद्र भेज दिया, जबकि आरोपी लड़कों को पकड़े जाने के बाद छोड़ दिया है। वही नाबालिक लड़कियों के मुताबिक “बारा के दो लड़के उन्हें 18 सितंबर कि देर रात बहला-फुसलाकर कोटा जयपुर और अजमेर के रेलवे स्टेशन के पास सुनसान जगह पर अपने अन्य तीन साथियों के साथ मिलकर उनके साथ दुष्कर्म की घटना को कुछ नशीला पदार्थ खिलाकर अंजाम दिया, जिसके बाद धमकी दी कि पुलिस को खुद भी बताया तो तुम्हारे मां-बाप और तुम्हें मार डालेंगे, इसी बीच आरोपी उन्हें कोटा लेकर गए। जहां 21 सितंबर को पुलिस ने उन्हें बरामद कर सभी को पुलिस स्टेशन ले गई।” पूरे मामले पर जिले के पुलिस अधीक्षक रविसभरवाल के मुताबिक हमने लड़कियों को बरामद कर मजिस्ट्रेट के सामने 164 का बयान करवाया। जिसमें उन्होंने बलात्कार जैसे किसी भी बात को नहीं कहा है। लड़कियों के मुताबिक वह अपनी मर्जी से लड़कों के साथ गई थी। क्योंकि उनके घर वाले उनके साथ मारपीट करते थे। बता दे राजस्थान के बारा निवासी दो नाबालिग 13 व 15 वर्षीय सगी बहनें 18 सितंबर की देर रात घर से अपने तो परिचित पड़ोसी लड़कों के साथ फारर हो गई थी। जिसका मामला उनके परिजनों ने दर्ज कराया था।

फेसबुक पोस्ट के जरिए कोटा में पकड़ी गई, मजिस्ट्रेट के सामने दिया था 164 का बयान

18 सितंबर को परिचित लड़कों द्वारा साथ ले जाने के बाद आरोपी लड़के लगातार अपनी लोकेशन बदल रहे थे। जिसमें पुलिस को बार-बार ट्रेस करने में दिक्कत हो रही थी। इसी बीच आरोपी लड़कों ने उन लड़कियों के साथ अपनी फोटो फेसबुक पर पोस्ट की, जिसके बाद लोकेशन ट्रेस करते हुए, पुलिस ने उन्हें 21 सितंबर को कोटा से ट्रांस कर बरामद करते हुए दोनों नाबालिग बहनों को बारा मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया। जिसमें लड़कियों ने 164 के बयान में अपनी मर्जी से साथ जाने की बात कही वहीं उन्होंने अपने माता-पिता पर मारपीट करने का आरोप लगाया जिसके बाद दोनों लड़कियों को साखी केंद्र भेज दिया गया। जहां से 4 दिन बाद लड़कियों को परिजनों को सौंप दिया गया।

घर में आकर लड़कियों ने बदला बयान, पिता मांग रहा इंसाफ, आरोपियों को थाने से दिया गया छोड़

घर जाने के बाद दोनों नाबालिग बहनों ने आरोप लगाते हुए बताया कि आरोपी लड़के उन्हें बहला-फुसलाकर कोटा जयपुर और अजमेर लेकर गए। जहां उनके साथ 3 दिन तक गैंगरेप किया गया इस पूरी वारदात में दो अन्य लड़के भी शामिल होने की बात लड़कियों द्वारा सामने आ रही है। लड़कियों ने बताया कि उन्होंने धमकी दी थी कुछ भी पुलिस के सामने बोली तो तुम्हें वह तुम्हारे घर वालों को जान से मार देंगे। अब पीड़िता का पिता इंसाफ मांगते हुए पुलिस से गुहार लगा रहा है वहीं दोनों बहनों ने साखी केंद्र में भी धमकाया जाने का गंभीर आरोप लगाया है पीड़िता के पिता के मुताबिक उनकी बेटियों के साथ गलत किया गया है जबकि दूसरी तरफ आरोपियों को छोड़ दिया गया है हमें न्याय कैसे मिलेगा ?

राजस्थान बीजेपी ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा प्रदेश में लगातार बढ़ रही बलात्कार की घटनाएं

पूरे मामले को लेकर राजस्थान बीजेपी अपने राज्य में बलात्कार की बढ़ रही घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए बताया कि प्रदेश में बलात्कार की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही दूसरी तरफ पीड़ितों को इंसाफ भी नहीं मिल पा रहा है इस कड़ी में बीजेपी के केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि राजस्थान में गरीबों के लिए कोई कानून नहीं है तेरा और 15 साल की नाबालिक लड़कियों के साथ दरिंदगी हुई और इस मामले को दबाने की कोशिश शर्मनाक है यह लड़कियां अकेले नहीं है पूरा इनके साथ है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी सें से मैं कड़ी कार्रवाई की मांग करता हूं।

बारा पुलिस ने किया पूरे मामले का खंडन

बारा पुलिस हेड क्वार्टर ने बयान जारी करके दोनों नाबालिग बहनों के साथ दुष्कर्म के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि दोनों बालिकाओं ने अपने 164 के बयान में स्पष्ट किया है कि उनके साथ रेप नहीं हुआ है। दोनों बालिकाओं की मेडिकल जांच कराई गई। उसमें भी रेप की पुष्टि नहीं हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here