loading...

उत्तर प्रदेश बड़ी संख्या में कोरोना कीट घोटाले को लेकर राजधानी लखनऊ में जीपीओ पर कांग्रेसियों ने पहुंचकर विरोध करते हुए जीपीओ से विधान भवन की ओर बढ़ने की कोशिश की, प्रदर्शन के साथ हल्ला बोल कर रहे कांग्रेसियों व पुलिसकर्मियों के बीच भिड़ंत हो गई।

loading...

पुलिस ने कई कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। बता दें कि कोविड-19 कीट को लेकर हुए घोटाले की जानकारी के बाद एसआईटी जांच का योगी आदित्यनाथ ने ऐलान दिया है। घोटाले को लेकर जीपीओ से लेकर विधान भवन तक कांग्रेसी हल्ला बोल कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश कोविड-19 काल में आपदा को अवसर बना कर घोटाला कर अनियमित कर घोटाला करने वाले सीएमओ यानी जिला स्वास्थ्य अधिकारी से लेकर प्रशासनिक पदों पर बैठे अधिकारी तक इसके लपेटे में आते दिख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने पूरे मामले पर संज्ञान लेते हु तुरंत एसआईटी का गठन कर कोरोना वायरस संक्रमण जैसी बीमारी के दौरान कोविड-19 किट घोटाले में जांच का आदेश दिया है। दूसरी तरफ यूपी कांग्रेश प्रभारी प्रियंका गांधी ने तंज कसते हुए कहा कि पहले घोटाला.. फिर शख्ती का नाटक और फिर घोटाला दबाना अजीब दास्तां है। यह कहां से शुरू और कहां पर खत्म……. बता दे प्रियंका गांधी ने लिखा न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश में कोरोना कीट को खरीदने में घोटाला हुआ है। क्या पंचायत चुनाव के समय में जिले जिले वसूली केंद्र बना दिए गए हैं।_ बता दे लगातार इस मामले को उठाते हुए आप नेता व राज्यसभा सांसद संजय सिंह आक्रमक रुख अपनाए हुए हैं तीखे हमले बोलते रहे हैं उनके कुछ ट्वीट पर नजर डालें।बता दे सुल्तानपुर व गाजीपुर सहित कुछ जिलों में पल्स ऑक्सीमीटर और इंफ्रारेड थर्मोमीटर की खरीद को बाजार से कई गुना अधिक मूल्य पर खरीद कर घोटाला किए जाने की बात सामने आई है। जिस मामले को सीएम योगी आदित्यनाथ ने गंभीरता से लें जांच के लिए एसआईटी गठित करने का निर्देश दिया है। यह एसआईटी पूरे मामले को 10 दिनों के अंदर जांच कर अपनी रिपोर्ट प्रशासन को सौंपीगी, इस एसआईटी के प्रमुख आईएएस रेणुका कुमार को बनाया गया है बता दे सुल्तानपुर के बीजेपी विधायक देवीमणी द्विवेदी ने सुल्तानपुर के डीएम इंदुमती से स्वास्थ्य को लेकर विवाद के बाद पत्र लिखकर घोटाले को अवगत कराते हुए जांच कराने की मांग की पूरे मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनाते हुए एसआईटी का गठन कर तत्काल जांच का ऐलान किया। जो कि 10 दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपी। इस पूरे मामले पर सुल्तानपुर के डीएम इंदुमती ने कहा है। मुझ पर लगे आरोप गलत है। माननीय विधायक ने मुझसे कभी बात नहीं की ना ही मेरे सीडीओ से तथ्यों की जांच की गई है उन्होंने कहा इतना बड़ा आरोप जिला प्रशासन की छवि को खराब करने के उद्देश्य लगाया गया है। कोविड-19 को लेकर आम आदमी पार्टी के नेता व राज्यसभा सांसद संजय सिंह लगातार हमला बोलते रहे हैं। उन्होंने ताजा ट्वीट करते हुए इस घोटाले को लेकर योगी सरकार पर हमला बोला।

प्रशासन के सूत्रों ने बताया पूरे मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसआईटी का गठन किया है जो कि 10 दिन के अंदर अपनी रिपोर्ट दाखिल करेगी अगर उसमें किसी भी प्रकार की अनियमितता पाई जाती है तो दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here