उत्तर प्रदेश गुंडे बदमाश दिन पर दिन कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ाते हुए कई कानून तोड़ते हुए दिखते हैं उन पर कार्यवाही भी प्रशासन द्वारा लगातार की जा रही है ताजा मामला उत्तर प्रदेश जिले के मिश्रिख थाने से सामने आया जहां दबंग दरोगा सिंघम स्टाइल में अमित दुबे ने पहले तो रोड पर जहां कई गाड़ियां खड़ी थी डाला खड़ा कर युवक खाना खाने चला गया बिना पूछे कारण जाने डंडा उठाकर दरोगा साहब कानून को धता बताते हुए पीटने पर उतारू हो गए, योगी जी के सख्त हिदायत के बावजूद कानून वाले ही कानून तोड़ने पर उतारू नजर आ रहे हैं।

उसके बाद वर्दी का रौब झाड़ साहब इतने में भी नहीं माने जब पीड़ित थाने आया और मोबाइल का कैमरा वीडियो बनाते हुए पूछने लगा उन्हें जो मारा गया पहले तो उसे डराया धमकाया वीडियो में बखूबी बॉडी लैंग्वेज के साथ गुस्सा और धमकी बखूबी देखकर समझ सकते हैं वर्दी के नशे में चूर साहब फिल्मी स्टाइल और पीड़ित को मारने के लिए उतारू हो मोबाइल छीनने लगते हैं। पीड़ित पहले भी पिट चुका था कहता है कि मैं मोबाइल नहीं दूंगा चाहे जितना मार पीट लो, जाहिर है मोबाइल छीन कर पीड़ित के वीडियो के साथ, क्या होता है वह आप बखूबी समझते हैं। ऐसे कानून के रक्षक जब कानून व्यवस्था पर पलीता लगाएंगे,

इनमें और सड़क छाप गुंडों में फर्क बस इतना है कि इनके तन पर वर्दी है। ऐसे कानून व्यवस्था के रक्षकों के बीच आम आदमी को कैसे मिलेगा इंसाफ ?

क्या मोबाइल छीन कर सबूत नष्ट क्या सही है ?

रोड जहां कई गाड़ियां खड़ी हो वह किनारे पर गाड़ी खड़ी कर, क्या खाना-खाना गुनाह है?

क्या कानून की नजर में इस भाषा शैली के साथ वर्दी में रौब जायज है?

पूरे मामले पर सीतापुर पुलिस की प्रतिक्रिया आई आगे जो भी कार्रवाई होगी उससे अवगत कराया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here