उत्तर प्रदेश हाथरस में दलित पीड़िता के साथ गैंगरेप के मामले की जांच उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरी तरीके से सीबीआई को सौंप दिया है सीबीआई जांच में बड़े खुलासे के आसार है फिलहाल सीबीआई जांच तक इस मामले पर पर बारीक से बारीक नजर रखी जाएगी।

दूसरी तरफ बलरामपुर में दलित छात्रा के साथ हुए गैंगरेप मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है जिसमें तकनीकी को खुलासा हुआ है। बलरामपुर केस में पीड़िता के साथ किस तरह हैवानियत को अंजाम दिया गया उसे बयां करना भी दुर्भाग्यपूर्ण है।

बरहाल इस मामले में किसी विपक्षी नेता के शब्द तक नहीं निकले? सबसे बड़ा सवाल यही है आखिर क्यों इस मामले को लेकर किसी भी राजनेता ने संवेदना तक व्यक्त नहीं की?

रेप रेप होता है दोनों मामलों में गैंगरेप के मामले सामने आए हैं एक में रिपोर्ट में पुष्टि हुई है दूसरे में कई मामलों को लेकर बीच फंसे हुए हैं बहरहाल प्रशासन द्वारा दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से पीड़िता के शव को हाथरस मामले में जला दिया गया, यह दुर्भाग्यपूर्ण निंदनीय है।

मामले में पुष्टि के साथ दरिंदगी सामने आई लेकिन हाथरस मामले को राजनीतिक तूल देकर चमकाने वाले वह राजनेता इस मामले की सच्चाई का खुलासा होने के बावजूद पीड़िता की क्यों नहीं मदद करने सामने आ रहे ?

क्या पीड़िता पीड़िता में फर्क होता है ?

बलरामपुर पुलिस ने बताया कोतवाली गैसड़ी प्रकरण को साम्प्रदायिक रंग देने की कोशिश का विरोध पीड़िता के घर वालों और गाँव वालों ने किया। प्रकरण की जाँच की जा रही है।

https://youtu.be/QSpR43pja5Y

कुछ तकनीकी खराबी के चलते पूरे मामले का अपडेट कुछ क्षणों में……….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here