बौखलाए इमरान खान ने जारी किया नया विवादित नक्शा, भारतीय भू-भाग जम्मू कश्मीर लद्दाख जूनागढ़ को नक्शे में पाकिस्तान का हिस्सा दिखाया है।

नेपाल के बाद अब पाकिस्तान ने एक विवादित नक्शा जारी कर भारत के कुछ क्षेत्रों पर अपना दावा ठोका है लेकिन भारत ने इसे बेतुका बताया है। पाकिस्तान ने नया विवादित नक्शा जारी किया है जिसमें पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के सियाचिन लद्दाख और गुजरात के जूनागढ़ को अपना हिस्सा बताया है आज यानी कि मंगलवार कैबिनेट बैठक के दौरान पाकिस्तानी संसद में यह नक्शा पारित किया गया है भारत की ओर इस नक्शे को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई है। भारत ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा गया। यह बेतुका राजनीतिक कार्य है जो कि पूरी तरीके से राजनीति से प्रेरित है भारत द्वारा कहा गया इन हास्यास्पद दावों की ना तो कानूनी वैधता है और ना ही अंतरराष्ट्रीय विश्वसनीयता।

भारत- धारा 370 को समाप्त हुए कल यानी की 5 अगस्त को 1 साल पूरे होने वाले है इससे बौखलाएपाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तानी संसद में एक विवादित नया नक्शा जारी किया है।पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा यह नया नक्शा पाकिस्तान की जनता की उम्मीदों का प्रतिनिधि करता और पाकिस्तान की कश्मीर के लोगों के साथ सैद्धांतिक विचारधारा का समर्थन करता है वहीं पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने पिछले साल 5 अगस्त को भारत सरकार द्वारा कानूनी रियल नक्शे को नकारते हुए गैर कानूनी कदम उठाना बताया है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने कठपुतली मंत्रियों के साथ बयान जारी करते हुए (झूठे अवैधानिक) कहा नया नक्शा पाकिस्तान के स्कूल कॉलेज और सभी दफ्तरों में अधिकारिक नक्शा होगा।जिसे आज यानी मंगलवार को पाकिस्तानी कैबिनेट ने मंजूर किया है।

बता दे भारतीय भू-भाग जम्मू कश्मीर को 5 अगस्त 2019 को भारतीय संसद में कानूनी रूप से विकास कार्य को बढ़ावा देने की दृष्टि से विभाजित कर 370 हटाने के बाद जम्मू कश्मीर और लद्दाख 2 केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया था। जिससे जम्मू कश्मीर का पूर्ण रूप से विकास हो सके

इससे बौखलाए पाकिस्तानी हुक्मरान तब से अब तक पाकिस्तानी हुक्मरान लगातार कायराना हरकत के साथ ‌‌ के साथ ही तरह-तरह की उटपटांग बातें कर मानसिक दिवालियापन का परिचय देते हुए सुर्खियों में बने रहते हैं। इसी कड़ी में ताजा मामला पाकिस्तानी संसद द्वारा विवादित नक्शा पेश कर अपनी बौखलाहट को दुनिया से छुपाना हो सकता है, क्योंकि इस समय पाकिस्तान में आटा गेहूं ‌ की कमी से लेकर महंगाई तक की वजह से परेशान है ऊपर से पाकिस्तान के यार द्वारा दिया गया

कोरोनावायरस जिससे पीड़ित पाकिस्तानियों का सही से इलाज तक नहीं हो पा रहा है, ऊपर से पेट्रोल की मार, जानकार बताते हैं पाकिस्तानी हुक्मरानों की पैतडे़ बाजी अंदर के सभी मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने भर है। दूसरी तरफ पाकिस्तान में जग जाहिर है कि सेना से लेकर कर्ज देने वाले अपने मालिकों का पाकिस्तान सदैव कठपुतली ही रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here