loading...

बिहार के मुंगेर में दशहरे की रात मूर्ति विसर्जन के दौरान पुलिस और आम लोगों के बीच पहले विवाद हुआ उसके बाद जमकर हंगामा हुआ पुलिस ने बिना चेतवानी के लोगों को बेरहमी से पीटने के बाद गोलियां चलाई, पुलिस फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई। कई अन्य बुरी तरह घायल हो गए, कई लपात है। इस गोलीकांड को लेकर गुरुवार को एक बार फिर लोगों का गुस्सा फूटा सैकड़ों की संख्या में आक्रोशित भीड़ ने जमकार बवाल करते हुए Sp लिपि सिंह पर कार्रवाई की मांग करते हुए एसपी कार्यालय पर तोड़फोड़ कर कई वाहनों में तोड़फोड़ के बाद पूरब सराय थाने को आग के हवाले कर भीड़ ने कई पुलिसिया वाहनों को भी फूंक दिया है।पुलिस की कार्यवाही, कार्यप्रणाली से लोगों में भारी गुस्सा है। लोगों ने एसपी की’ कार्यवाही की तुलना जनरल डायर से करते हुए एसपी व कलेक्टर के साथ सभी संलिप्त पुलिसकर्मियों के साथ (एसपी व डीएम) पर 302 हत्या का मुकदमा करने की मांग के साथ बवाल किया है, लोगों ने स्पीड ट्रायल करा कर निर्दोषों के हत्यारों को फांसी देने की मांग भी कि है।मुगेंर में बढते जन आक्रोश को देखते चुनाव आयोग ने तत्काल प्रभाव से SP लिपि सिंह व DM राजेश मीणा को हटा दिया है। फिरहाल लोग (SP DM) दोनों को बर्खास्त करने की मांग कर रहे है। मामले को संभालने के लिए डीआईजी मनु महाराज भारी संख्या में पुलिस बल के साथ उतरे है।। शाम को ही मानवजीत सिंह ढिल्लों को एसपी और रचना पाटिल को मुंगेर का डीएम के नियुक्त कर दिया गया है । जिसके बाद दोनों अधिकारी हेलिकॉप्टर से मुंगेर पहुंचे है।पुरी हिंसा में एसडीओ, डीएसपी के दफ्तर के साथ भींड उनके आवास पर भी पथराव किया है।

क्या है पुरा मामला

बता दे मुंगेर के दीनदयाल उपाध्याय चौक पर सोमवार देर रात दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान पुलिस बल पर भीड़ के द्वारा फायरिंग और पथराव की खबर आई थी। जिसमें एक थानेदार का सिर फटने के साथ 20 पुलिसकर्मीयों के घायल होने की खबर मिली थी। वही घटना में अनुराग पोद्दार नाम के व्यक्ति की मौत हो गई थी। कई जख्मी व लापता हुए थे। लेकिन जुलूस पर पुलिस ने बेरहमी से लाठीचार्ज किया था। इसका वीडियो 28 अक्टूबर को वायरल हुआ था। इसके बाद हिंसा भड़की। लोगों के मुताबिक पुलिस ने लाठी व गोली चलाई जिसके बाद हिंसा भाड़की है। अपर निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार सिंह के मुताबिक मुंगेर की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। लेकिन चुनाव आयोग ने 3 नवंबर को मुंगेर से सटे सभी जिलों को अलर्ट पर रहने के आदेश दिये है।

घटना के बाद शो० मीडिया पर लोगों का गुस्सा

loading...

फिरहाल घटना के बाद पुलिस ने मुंगेर में फ्लैग मार्च निकाला है। बिहार के एडीजी जितेंद्र कुमार के मुताबिक मुंगेर हादसे की जांच की जा रही है। मूर्ति विसर्जव के कारण झड़प हुई थी। इसके बाद पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी, लेकिन हालात क्यों बिगड़े ?, इसका पता लगाया जा रहा है। जल्द ही मामले की जांच पूरी हो जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

क्या हिंसा चुनावों को प्रभावित करने के लिए भाड़काई गई है ?

सूत्रों के मुताबिक हिंसा विधानसभा के बाकी बचे दोनों फेज के चुनाव को प्रभावित करने के लिए प्लानिंग के तहत कराई गई है। क्योंकि चुनाव में मुस्लिम-यादव (MY) समीकरण इस मामले में हावी हो रहा है। मुंगेर कांड के जरिए बिहार विधानसभा के बाकी बचे दोनों फेज के चुनाव को प्रभावित करने के लिए लोगों को भड़काया जा रहा है। फिरहाल पुलिस जांच में जारी है……..

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here