loading...

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में अपहरण और गैंगरेप के मामले में बिसौली के बीजेपी विधायक कुशाग्र सागर के पिता (बिल्सी विधानसभा से बसपा विधायक रह चुके) योगेंद्र सागर को एमपी एमएलए कोर्ट ने 23 अप्रैल 2008 को बिल्सी थाना क्षेत्र की रहने वाली b.a. सेकंड ईयर की छात्रा को अगवा कर गैंगरेप मामले में शनिवार को दोषी करार देते हुए उम्र कैद की सजा सुनाने के साथ ₹30000 का जुर्माना लगाया है जिसके बाद हाई कोर्ट से जमानत पर बाहर चल रहे बीएसपी के पूर्व बसपा विधायक योगेंद्र सागर को सजा सुनाए जाने के दौरान कोर्ट में मौजूद योगेंद्र सागर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

loading...

बता दे बिल्सी थाना क्षेत्र की रहने वाली b.a. सेकंड ईयर की छात्रा 23 अप्रैल 2008 को अपनी सहेलियों के घर कुछ काम के लिए गई थी इसी दौरान उसका उक्त विधायक द्वारा अपहरण कर लिया गया। जब छात्रा देर शाम तक वापस घर नहीं लौटी तो उसके परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट बिल्सी थाने में दर्ज कराई 16 मई 2008 को छात्रा को बरामद कर लिया गया। जिसके बाद पीड़िता के पिता व परिजनों ने थाने में पहुंचकर पूर्व विधायक योगेंद्र सागर उनके भाई तेजेंद्र सागर और मोनू शर्मा नाम के ऊपर अपहरण और गैंगरेप का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया था। तबसे पूरे मामले की सुनवाई कोर्ट में चल रही थी जिसका आज कोर्ट ने फैसला सुनाया हैं। पूरे मामले में कई आरोप लगने के बाद इस हाईप्रोफाइल मामले में हाईकोर्ट के निर्देश के चलते तेजी से सुनवाई की गई 16 जुलाई 2014 को तेजेंद्र सागर मोनू शर्मा को‌ कोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी तब से दोनों जेल में बंद है योगेंद्र सागर ने 2014 में कोर्ट में सिलेंडर किया जिसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया था हालांकि इलाहाबाद हाई कोर्ट से जमानत के बाद वह बाहर चल रहे थे। जिसके बाद आज एमपी एमएलए कोर्ट ने उन्हें दोषी करार देते हुए उम्र कैद की सजा के साथ ही 30000 का जुर्माना लगाया है।

अपहरण व गैंगरेप के वक्त बसपा विधायक के योगेंद्र सागर, 2017 में थमा बीजेपी का दामन

23 अप्रैल 2008 बीए की छात्रा का अपहरण कर गैंगरेप के आरोपी विधायक योगेंद्र सागर उस समय बिल्सी विधानसभा सीट से बसपा की विधायक थे बाद में उन्होंने बसपा को छोड़कर बीजेपी का थमा था। 2017 में बीजेपी‌ के विधानसभा टिकट पर उनके बेटे कुशाग्र सागर ने बिसौली विधानसभा सीट से विधायकी जीती यानी वह वर्तमान में बीजेपी विधायक है। हालांकि विधायक कुशाग्र सागर पर भी बरेली की एक महिला ने यौन शोषण का आरोप लगाया था जिसे पुलिस जांच में गलत पाया गया है।

loading...