भारत नवंबर 2019 में चीन के वुहान शहर कि सी फूट मार्केट से निकलकर चीनी कोविड-19 वायरस यानि कोरोनावायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है इस समय दुनिया का सबसे अधिक प्रभावित देश भारत इसके भीषण कहर से जूझ रहा है, 2020 में कोविड-19 की पहली लहर में भारत में एक लाख के अंदर मामले रहे जबकि दूसरे लहर ने सभी रिकॉर्ड को ध्वस्त कर दिया है दुनिया का एकमात्र देश भारत है जहां 400000 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं।

चुनाव आयोग केंद्र सरकार ढीले सिस्टम की रवैया की वजह से भारत में कोविड-19 दिन पर दिन विकराल रूप धारण करता जा रहा है, जब हमारे प्रशासन को सबक लेते हुए सब कुछ बंद करवाने यानी लॉक डाउन की जरूरत थी उस समय हमारे राजनेता लाखों की भीड़ के साथ जनसभा संबोधित कर कोविड-19 कि दूसरे लहर के बीच चुनाव प्रचार के नाम पर कोविड-19 तन पर प्रसारित कर रहे थे मद्रास हाई कोर्ट ने इसके लिए सीधे-सीधे चुनाव आयोग को जिम्मेदार ठहराया है लेकिन इसके लिए लोकतंत्र के लगभग चारों स्तंभ जिम्मेदार है जिनकी जवाबदेही थी उन्होंने मुखर होकर इसका विरोध नहीं किया जिसकी वजह से सब कुछ चलता रहा अब स्थिति बद से बदतर हो रही है तब विचारों से जानने की कोशिश कर रहे हैं।

कोविड-19 की सेकंड लहर के लिए कौन सबसे अधिक जिम्मेदार ?

कोविड-19 के कहर के बीच जारी रही चुनावी रैलियां और रोड शो लाश पर राजनीति करते रहे राजनेता, इन पर कारवाई आखिर क्यों नहीं ?

कोविड-19 अस्पताल में बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं की भारी कमी, क्यों छुपाया जा रहे हैं रियल आंकड़े ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here