loading...

उत्तर प्रदेश दिन पर दिन दहेज के लिए बहन बेटियों का शोषण कर हत्या के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे, दूसरी तरफ पुलिस के ढुलमुल रवैया की वजह से ऐसे अपराधियों के हौसले दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं।

loading...

बता दे मृतका के पिता के मुताबिक कानपुर नगर के सचेती थाना क्षेत्र में 9 जुलाई की देर रात ससुराल वालों द्वारा दहेज के लिए उनकी विवाहिता पुत्री की निर्मम हत्या कर शव को फेंक कर उसके बच्चे को उसके ननिहाल यानी कानपुर देहात के जौनपुर गांव में छोड़ कर मामला रफा-दफा करने में जुट जाया गया। 10 जुलाई को सचेती थाना क्षेत्र में विवाहिता का शव मिलने के बाद आज इस घटना के तीसरे दिन भी आरोपियों के खिलाफ ना मामला दर्ज होने की जानकारी मिली है ना ही आरोपियों पर किसी भी तरीके का पुलिसिया शिकंजा कसा गया आरोपियों की गिरफ्तारी की बात तो बड़ी दूर की बात है।

मृतक विवाहिता के पिता के मुताबिक ससुराल वाले दहेज के लिए लगातार प्रताड़ित कर परेशान कर रहे थे, दहेज न मिलने की वजह से विवाहिता की निर्मम हत्या कर दियी गयी है।

loading...

आखिर किसके दबाव में कानपुर पुलिस ने अब तक आरोपियों के खिलाफ, आखिर क्यों अब तक नहीं की कोई कार्यवाही ?

loading...

विवाहिता की निर्मम हत्या के तीसरे दिन भी आरोपियों पर कोई कार्यवाही का ना होना सरकार के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के दावों को हवा हवाई साबित कर रहा है दूसरी तरफ जिस पुलिस का काम कानून व्यवस्था को दुरुस्त कर आरोपियों पर कार्रवाई करना है वह इस मामले में विवाहिता के ससुराल वालों पर मेहरबान नजर आ रही है।

पूरे मामले से कानपुर पुलिस कमिश्नरेट को अवगत करा दिया गया है उनका पक्ष व कार्यवाही आने पर तत्काल अवगत कराया जाएगा।

अपडेट- 14 जुलाई अभी सुबह तक पूरे मामले में गुमराह करते हुए नहीं दर्ज किया गया कोई केस, निराश होकर मृतक पीड़िता के परिजन वापस लौटे,

मृतक पीड़िता के पिता के साथ अन्य लोग कल शाम मृतक पीड़िता का अंतिम संस्कार करने के बाद सचेती थाने गए लेकिन वहां पर पुलिस की कार्यशैली सवालों के घेरे में नजर आई पुलिस द्वारा पूरे मामले को रफा-दफा करने की कोशिश करते हुए बिना मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार किए बताया गया कि यह जहर देने का मामला है जबकि तस्वीरें साफ-साफ गवाही दे रही है कि विवाहिता की निर्मलता से पीट-पीटकर हत्या की गई, उसके शरीर पर क्रूरता की तस्वीरें साफ-साफ झलक रही है गौर से देखने पर पता चलता है कि हाथ को कपड़े या रस्सी से बांधा प्रथम दृष्टि शव पाया गया, विवाहिता के पिता के मुताबिक ससुराल वालों द्वारा दहेज के लिए प्रताड़ित किया जा रहा था जिसकी वजह से उनकी बेटी की हत्या कर लाश को उसके ससुराल से काफी दूर फेंक दिया गया। जबकि पुलिस पूरे मामले में दहेज हत्या की धाराओं में मामला दर्ज करने से साफ मना कर रही है विवाहिता की शादी दिसंबर 2018 में आरोपी के साथ हुई थी। आखिर क्यों और किसके दबाव में पुलिस द्वारा खेल किया जा रहा है ?

पुलिस द्वारा इस मामले से जुड़े किसी भी पक्ष या जानकारी अवगत नहीं कराया गया है कि विवाहिता की गुमशुदगी को लेकर, क्या किसी थाने में कोई मामला पहले से दर्ज किया गया था। फिरहाल जानकारी के मुताबिक मृतक विवाहिता के ससुराल वालों ने गुमशुदगी की थाने में एफ आई आर दर्ज करवा कर विवाहिता के बच्चे को ननिहाल छोड़कर चले गए। दूसरे पक्ष या पुलिस के पक्ष की जानकारी मिलते ही अवगत कराया जाएगा।

लेटेस्ट अपडेट 17 जुलाई 2021, संबंधित मामले में कानपुर पुलिस के मुताबिक एसीपी गोविंद नगर द्वारा जांच कर आरोपियों पर कार्रवाई की जा रही है।

विशाल गुप्ता की रिपोर्ट

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here