राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के मुराद नगर स्थित श्मशान घाट परिसर की छत लिन्टर गिरने से शव का संस्कार कराने गए करीब 50 लोग दब गए| जिनमें से 45 लोगों को मलबे से निकाला गया है| जिनमें से 22 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है अभी भी दर्जनभर से अधिक लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है| कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है|

एनडीआरएफ की टीम राहत बचाव कार्य में जुटी

जानकारी के बाद घटनास्थल पर एनडीआरएफ की टीम के साथ डायवर्सिफाइड की टीम ने पहुंचकर राहत बचाव का शुरू कर दिया है

ढाई माह पहले अक्टूबर में हुआ था लिंटर का निर्माण

मुरादनगर के क्षतिग्रस्त श्मशान घाट का निर्माण अक्टूबर महीने में पूरा हुआ था प्रशासन की मिलीभगत से निर्माण कार्य में भारी धांधली हुई, बता दे हादसे के शिकार के शिकार सभी लोग मुरादनगर के डिफेंस कॉलोनी निवासी 65 वर्षीय फल विक्रेता जय राम के अंतिम संस्कार में आए थे|

अंतिम संस्कार के बाद सभी गेट से सटी गैलरी में मौन धारण करने के लिए इकट्ठा हुए| इसी दौरान गैलरी का लिंटर गिरने की वजह से हादसा हो गया| जबकि इस गैलरी का निर्माण ढाई महीने पहले पूरा हुआ था| पूरे निर्माण कार्य में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया था लोगों ने आरोप लगाते हुए बताया कि सरिया को छोड़कर संपूर्ण सामग्री घटिया क्वालिटी की थी इसी वजह से अचानक श्मशान घाट की गैलरी चकनाचूर हो कर गिर गई|

जिसके नीचे करीब 50से 60 लोग दब गए जिनमें से 50 लोगों को राहत बचाव कार्य करते हुए निकाला गया जिनमें से 25 लोगों की मौत हो गई है| अभी भी दर्जन भर से अधिक लोग फंसे हुए हैं कई की हालत नाजुक बनी हुई है मौत की संख्या लगातार बढ़ रही है|

घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर शोक जताया-

मुख्यमंत्री ने मृतकों के आश्रितों को दो ₹200000 मुआवजा देने का ऐलान किया|

हादसे की जानकारी के बाद गाजियाबाद के जिला अधिकारी अजय शंकर पांडे के साथ एसपी कलानिधि नैथानी और कमिश्नर अनीता सी ने घटनास्थल पर पहुंचकर राहत बचाव कार्य का जायजा लिया|

घटनाक्रम पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार नजर बनाए हुए हैं| उन्होंने मृतकों के आश्रितों को दो ₹200000 की आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्देश देते हुए घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया है| मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे लोगों की हर संभव मदद करने के साथ ही घटना की रिपोर्ट भेजें|

गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान घाट पर डिफेंस कॉलोनी निवासी दयाराम के अंतिम संस्कार में पहुंचे करीब 100 लोगों में से 60 से अधिक लोग अंतिम संस्कार के बाद बारिश की वजह से श्मशान घाट परिसर के अंदर बने भवन में इकट्ठा हो गए| जानकारी के मुताबिक किसी बीच जमीन धंसने से परिसर की दीवाल मिट्टी में धस गई|लिंटर समेत छत भरभरा कर गिर गई| जिसके नीचे 60 से अधिक लोग दब गए, चीख पुकार के बाद बड़ी मुश्किलों से जानकर बचाकर भागे लोगों ने घटना की जानकारी दी| राहत बचाव कार्य के बाद 55 लोगों को निकाला गया, जिनमें से 25 लोगों की मौत हो गई,कई गंभीर रूप से जख्मी है 10 से अधिक को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है मृतकों की संख्या बढ़ सकती है|

लेटेस्ट अपडेट के साथ- विशाल गुप्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here