लखनऊ- मोहनलालगंज तहसील स्थित निगोहा थाना क्षेत्र में लखनऊ रायबरेली हाईवे के किनारे थाने से महज आधा किलोमीटर दूर बने मकान में बुजुर्ग दंपत्ति कि पत्थरों से सिर कुचलकर हत्या कर दी गई जिसके 100 मीटर दूरी पर एक और लाश मिलने से सनसनी फैल गई|

बता दे लखनऊ रायबरेली हाईवे के किनारे निगोहा मोड़ के पास 10 साल से मकान बनवा कर रहे रहे निगोहा के रति गांव निवासी राम सनेही साहू पत्नी राम जानकी साहू की हमलावरों द्वारा पत्थर से सिर कुचलकर निर्मम हत्या कर दी गई| गुरुवार दोपहर राम सनेही की बेटी साधना की बेटी यानी मृतक के नाती ने जब फोन किया तो फोन नहीं उठा वह कुछ सामान लेने अपने नानी के घर आए तो जैसे ही उन्होंने घर में प्रवेश किया उनके पैरों तले जमीन खिसक गई चारपाई पर नाना रामसनेही का शव पड़ा था जबकि फर्श पर नानी राम जानकी का शव चारपाई पर नग्न अवस्था में पड़ा था इतना देखते ही दोनों चीखने चिल्लाने के साथ भागकर रति गांव पहुंचे जिसके बाद पूरी घटना की जानकारी के बाद राम सनेही के तीनों पुत्र मूलचंद, लक्ष्मी नारायण व राज नारायण पहुंचे| सूचना पर पहुंची पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर ही रही थी कि तभी घटनास्थल से कुछ दूरी पर 2 दिन से लापता उदयपुर निवासी शत्रुघ्न का शव मिलने से सनसनी फैल गई| प्रत्याशियों के मुताबिक दूल्हा पति पत्नी के शव नग्न अवस्था में पड़े थे|

हालांकि आई जी का कहना है कि बुजुर्ग दंपत्ति अर्धनग्न अवस्था में थे ऐसा लगता है कि दोनों सोने की तैयारी कर रहे थे बुधवार देर रात के बीच घटना बताई जा रही है घर में रखा सामान व्यवस्थित है ऐसे में लूट व डकैती से साफ इनकार किया जाता है|

फिलहाल पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज कर फॉरेंसिक टीम के साथ जांच की जानकारी के मुताबिक रामसनेही साहू 75 वर्ष उनकी पत्नी राम जानकी 70 वर्ष की बुधवार देर रात हत्या की गयी, दूसरी तरफ मृतक के घर से 100 मीटर की दूरी पर उदयपुर निवासी 2 दिन से लापता शत्रुघ्न का शव खून से लथपथ अवस्था में पड़ा मिला उसकी गर्दन में चोट के निशान थे। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है पूरी घटना थाने से महज आधा किलोमीटर दूरी पर हाइवे से सटे गांव की है और पूरी वारदात की जानकारी पुलिस को बहुत देर बाद पता चलती है इससे कानून-व्यवस्था पर सवाल उठने भी लाजिमी है अगर सुरक्षा इतने चुस्त दुरुस्त रहती तो थाने से महज 500 मीटर की दूरी पर गांव व हाईवे के किनारे 3 लोगों की निर्मम हत्या हो जाती और हमारी पुलिस को कानों कान खबर तक नहीं होती, यह पुलिस की गश्ती व्यवस्था पर भी सवालिया निशान खड़ा करता है? एसपी ग्रामीण ने निगोहा के कार्यवाही निरीक्षक को इस मामले के बाद हटाया दिया है उनकी जगह पर माल के प्रभारी निरीक्षक शैलेंद्र सिंह को जिम्मेदारी दी गई है|

पूरे घटनाक्रम की जानकारी पाकर मृतक रिश्तेदार साधना दिखाने की मांग की इस पर पुलिस ने इंकार कर दिया जिसके बाद परिजनों ने नाराजगी व्यक्त कर हंगामा शुरू कर दिया। जिसके बाद आईजी ने महिला कांस्टेबल के साथ घर के भीतर भेज शव दिखाया जिसके बाद लोग शांत हुए। वहीं पड़ोसी ने बताया कि राम जानकी रोज उनके यहां सुबह सुबह फूल तोड़ने आती थी लेकिन बुधवार और गुरुवार को वह नहीं आई फिलहाल पुलिस पूरी वारदात के पीछे परिवारिक भूमिका की छानबीन के साथ पूरे मामले को सुलझाने की कोशिश कर रही है|

कुछ लोगों द्वारा अफवाह फैलाई जा रही जिसके जवाब में लखनऊ पुलिस की सोशल टीम ने तथ्यों के साथ एडवाइजरी जारी की हैं । लेकिन पुलिस ने घटनास्थल से थाने की दूरी और लापरवाही का जिक्र क्यों नहीं किया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here