दुनिया के एकमात्र यहूदी देश इजराइल में बड़ा सत्ता परिवर्तन होता हुआ दिख रहा है वहां की छोटी-बड़ी विपक्षी पार्टियों ने मिलकर आपस में समझौता कर लिया है इस समझौते के बाद 12 साल से इजरायल के प्रधानमंत्री मौजूदा वक्त में आंतरिक प्रधानमंत्री नेतनयाहू का प्रधानमंत्री पद से हटना हो गया है इसके बाद इजराइल की नई सरकार के गठन होना लगभग तय हैं इस छोटी-बड़ी विपक्षी पार्टियों के प्रधानमंत्री के तौर पर राष्ट्रवादी नेफ्ताली बेनेट लीड करेंगे यानी वह इजराइल के नए प्रधानमंत्री होंगे।

यह सब-कुछ बुधवार को विपक्ष की समय सीमा खत्म होने से आधे घंटे पहले हुआ….

एकमात्र यहूदी देश इजराइल में बड़ा सत्ता परिवर्तन 12 साल बाद होते हुए दिख रहा है इजराइल की छोटी-बड़ी विपक्षी पार्टियों ने आपसी मतभेद भुलाकर लंबे समय यानी 12 साल से सत्ता में रहने वाले मौजूद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू को प्रधानमंत्री पद से हटाने के बेहद करीब पहुंच गये है इस बात की जानकारी इजराइल के मौजूद राष्ट्रपति रेवन रिवलिन ने देते हुए बताया कि विपक्षी पार्टियों में सरकार बनाने को लेकर आपसी समझौता हो गया है वह नई सरकार गठन के लिए लगभग तैयार है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया यह सब बुधवार को विपक्ष की समय सीमा खत्म होने से करीब आधा घंटे पहले हुआ। बताते चलें कि इजरायल के मौजूद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू पिछले 12 वर्षों से इजराइल की सत्ता (प्रधानमंत्री पद) पर कबिज है वह ऐसी परेशानियों से कई बार गुजर चुके हैं। इसलिए माना जा रहा है किस बार भी वह अंतिम समय तक अपनी कुर्सी बचाने की कोशिश करेंगे।

विपक्षी गठजोड़ से आसान हुई सत्ता की राह, यह सरकार पूर्ण बहुमत से आगे, पहले नेफ्ताली बेनेट संभालेंगे जिम्मेदारी, फिर लैपिड बनेंगे प्रधानमंत्री

इजराइल की नई बनने वाली इस सरकार की राह आसान नहीं थी इस बीच विपक्षी पार्टियों ने आपसी गठजोड़ के लिए समझौता करते हुए राष्ट्रपति को ई-मेल भेजा पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाने की बात कही। इस बात की पुष्टि राष्ट्रपति ने करते हुए बताया कि याइर लैपिड ने उन्हें ई-मेल भेजकर यह जानकारी दी, इसमें उन्होंने लिखा है कि वह यह बताते हुए काफी गौरवान्वित हो रहे हैं कि उन्होंने सरकार बनाने में सफलता हासिल कर ली है। इसके बाद राष्ट्रपति ने लेपर्ड को इसके लिए बधाई ।दी बता दे की उनके प्रमुख सहयोगी नेफ्ताली बेनेट इस विपक्ष के गठजोड़ सरकार के नए प्रधानमंत्री होंगे। विपक्षी नेताओं के बीच सरकार बनाने को जो समझौता हुआ है उसके मुताबिक पहले बेनेट प्रधानमंत्री बनेंगे उनके बाद इस पद की जिम्मेदारी पूर्व में देश के वित्त मंत्री की भूमिका निभा चुके लैपिड को दी जाएगी।

इजराइल इतिहास में पहली बार, 21 फीसदी अरब अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व का करने वाली पार्टी सरकार में होगी शामिल

विपक्ष के कई समझौतों के बाद या असंभव सा दिखने वाला गठबंधन तैयार हो पाया है इसमें छोटी बड़ी विपक्षी पार्टियों ने आपस में समझौता 12 साल से इजराइल के सत्ता पर काबिज प्रधानमंत्री नेतनयाहू को इस पद से हटाना लगभग तय कर दिया है इसमें कई अनोखी बातें हैं इस रैली इतिहास में पहली बार 21 फीसदी अरब अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने वाली पार्टी इस सरकार में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रही है इ्सको बेनेट की यामिना पार्टी का समर्थन हासिल हुआ है इस पार्टी के अलावा सेंटर लेफ्ट ब्लू एंड वाइट, लेबर पार्टी, राष्ट्रवादी ये इजरायल बेटन्यू पार्टी, राइट विंग पार्टी समय छोटी-छोटी पार्टियों ने मिलकर इस सरकार का खाका तैयार किया है इस सरकार को पूर्ण बहुमत से अधिक का समर्थन हासिल होता हुआ दिख रहा है।

जानकारी के मुताबिक 10 12 दिनों में या नहीं सरकार शपथ ग्रहण कर सकती है फिलहाल मौजूदा प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू अपनी सरकार को बनाए रखने की हर मुमकिन कोशिश करने कोशिश करते रहे हैं। फिर हाल जब तक इजराइल में नई पार्टी कि सरकार बहुमत हासिल नहीं कर लेती तब तक इजरायल के प्रधानमंत्री के पद पर बेंजामिन नेतन्याहू बने रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here