loading...

राजधानी- लखनऊ पुलिस ने ऑनलाइन धोखाधड़ी करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए 9 जालसाज साइबर ठगों को गिरफ्तार किया। जबकि 11 भी फरार बताए जा रहे हैं यह सभी झारखंड राज्य के देवघर, गिरिडीह व दुमका में कॉल सेंटर चलाकर लोगों  की मदद के बहाने  उनके पेंशन खातों की जानकारी प्राप्त कर उनके खातों से ऑनलाइन धोखाधड़ी कर रुपया निकाल लेते थे। पुलिस के मुताबिक इन साइबर जालसाजों का नेटवर्क कई वर्षों से देश के विभिन्न हिस्सों में फल फूल रहा था। उन्होंने अब तक करीब 3 करोड रुपए रुपए का फ्रॉड कर करोड़ों की बेनामी संपत्ति खरीदी है। पुलिस ने इनके खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज कर अवैध संपत्ति को जप्त करने समेत विभिन्न कार्यवाही करने की तैयारी में है।

(पूरा मामला बारीकी से समझने के लिए कृपया पुलिस की प्रेस कॉन्फ्रेंस पढ़ें।) साइबर क्राइम का अड्डा बन चुके झारखंड के जामताड़ा देवघर गिरिडीह वॉल्यूम का में बैठकर ही जालसाज पहले कॉल सेंटर के जरिए लोगों को अपने झांसे में लेकर फिर उनके खाते से ऑनलाइन पैसे दूसरे खाते में ट्रांसफर करा लेते थे। बीती जुलाई माह में इतनी लखनऊ साइबर सेल को सूचना दी कि उनके खाते से 53 लाख रुपए की रकम ऑनलाइन धोखाधड़ी करते हुए ट्रांसफर कर ली गई है जिसके बाद लखनऊ पुलिस ने साइबर टीम के साथ मिलकर जानकारियां जुटाई फिर हजरतगंज थाने में मुकदमा पंजीकृत कर कार्रवाई शुरू करते हुए प्रदेश के बाहर झारखंड के देवघर दुमका में दबिश दी और इस गिरोह के शातिरों के गर्दन तक लखनऊ पुलिस के हाथ गए जिसके बाद आरोपियों ने पूछताछ में कबूल किया कि वह करीब 6 साल से ऑनलाइन ठगी का कारोबार कर रहे थे अब तक लोगों से करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी कर उनके पैसे अपने खाते में ट्रांसफर करवाया। खोजबीन के बाद पुलिस को पता चला जालसाज ऑनलाइन माध्यमों से पैसे ट्रांसफर कर आते थे जैसे ही वायलेट पेटीएम फोन पर गूगल पर अमेजॉन फ्लिपकार्ट एयरटेल मनी या गिफ्ट। डिजिटल सबूतों से पकड़े गए अपराधी लखनऊ पुलिस ने डिजिटल सबूतों को आधार बनाते हुए आरोपियों के बैंक खातों की डिटेल के साथ ही वॉलेट केवाईसी आदि की गहनता से अध्ययन किया और उसमें वेरीफाई मोबाइल नंबर ईमेल आईडी आईपी ऐड्रेस हुआ सर लाल की तकनीक का प्रयोग करते हुए पुख्ता जानकारी खट्टा के जिसके बाद आईपी एड्रेस के माध्यम से आरोपियों की वर्तमान लोकेशन झारखंड के दुमका जिला स्थित सर जोर बांदरी गांव में मिली जिसके बाद साइबर क्राइम टीम के साथ हजरतगंज पुलिस की संयुक्त टीम ने पूरी स्थिति का मुआयना करते हुए सभी आरोपियों का सही नाम पता हासिल करने के बाद सभी तथ्यों को पुनः क्रश चेक करने के बाद आरोपियों को पूछताछ के बहाने हजरतगंज बुलाने के बाद सभी को गिरफ्तार कर गहनता से पूछताछ कर रही है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here