loading...

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में प्रदर्शनकारी किसानों पर थार गाड़ी चला कर निर्मम हत्या समेत पूरे हत्याकांड मामले का बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने स्वता संज्ञान लिया है इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस एनवी रमणा की अगवाई में गुरुवार को जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली समेत तीन सदस्य पीठ पूरे मामले की सुनवाई करेंगे।

loading...

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में 3 अक्टूबर के दिन रविवार को बीजेपी के केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ़ टेनी के पैतृक बनवीरपुर गांव में बीजेपी का कार्यक्रम आयोजित हुआ था जिसमें बतौर मुख्य अतिथि के रूप में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को बुलाया गया था। इसी दरमियान अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा उपमुख्यमंत्री को रिसीव करने जा रहे थे। इस दौरान तीनों कृषि कानून का विरोध कर प्रदर्शन कर रहे थे किसानों ने हेलीपैड घेरकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। आरोप के मुताबिक इसी दरमियान केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे ने अपने समर्थकों (साथियों) के साथ थार गाड़ी समेत तीन गाड़ियों से विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को पीछे से कुचल दिया जिसमें 4 किसानों की कुचलने समेत हिंसा फैलने से 9 लोगों की मौत (की पुष्टि) हुई है। जिनमे तीन बीजेपी कार्यकर्ता एक ड्राइवर, एक (साधना न्यूज़ का) पत्रकार शामिल है।

खुलेआम सत्ता के नशे में चूर होकर मंत्री के बेटे द्वारा प्रदर्शन कर रहे किसानों पर थार गाड़ी चढ़ाकर कुचलने के गंभीर आरोप के चलते किसानों के भारी विरोध के बीच प्रशासन ने अजय मिश्रा के बेटे समेत 14 लोगों पर हत्या समेत अन्य जघन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। इस हत्याकांड के कई वीडियो सोशल मीडिया पर आने के बावजूद अब तक पुलिस का ढुलमुल रवैया बरकरार है ना ही आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है ना ही पूछताछ के लिए अभी तक उन्हें हिरासत में लिया गया है। (दूसरी तरफ किसानों पर गाड़ी चढ़ावाने के आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का भी इस्तीफा अभी तक नहीं हुआ है ना ही इस घटना के मुख्य पात्र उनके बेटे की गिरफ्तारी) (जब की पूरी घटना में शामिल होने और आरोपों से केंद्रीय मंत्री ने साफ इंकार किया है वीडियो कुछ और बताते हैं} किसानों पर गाड़ी चढ़ाने की घटना के बाद उत्तर प्रदेश का सियासी पारा चढ़ चुका है।

loading...

आज दिन भर कांग्रेश समाजवादी बीएसपी आम आदमी पार्टी के नेताओं के बीच रस्साकशी जारी रही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली से लखनऊ एयरपोर्ट पर आए तो उन्हें पहले तो रोका गया फिर घटना के बाद से सीतापुर में हिरासत में रखी गई उनकी बहन उत्तर प्रदेश कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी से मिलने समेत पांच लोगों को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत दी गई। जानकारी के मुताबिक सभी विपक्षी पार्टियों के 5 सदस्यों को लखीमपुर जाने की उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा अनुमति दी गई है ताकि क्षेत्र में लगी धारा 144 के साथ कानून व्यवस्था बरकरार रहे। वहीं बुधवार को पूरे मामले में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एनबी रमणा ने घटना का स्वता संज्ञान लेते हुए पूरे मामले की तीन सदस्य खंडपीठ (जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली) के साथ गुरुवार को सुनवाई करेंगे।

लखीमपुर खीरी प्रदर्शन कर रहे किसानों से झड़प, केंद्रीय मंत्री के बेटे ने किसानों को कुचला, 8 की मौत, इंटरनेट सेवाएं बंद, जांच जारी

घटना से गरमाई सियासत, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का इस्तीफा न होने के चलते किसानों में आक्रोश, लखनऊ से घटनास्थल के लिए विपक्षी नेता रवाना

loading...

किसानों द्वारा मंत्री के बेटे पर गाड़ी से कुचल कर निर्मम हत्या करने के आरोप लगाने के बाद पूरे मामले में सियासत गर्मआ चुकी है हालांकि इस घटना के कई वीडियो सोशल मीडिया पर है जो कि जांच का विषय है प्रथम दृष्टि पूरे मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री की गाड़ियां किसानों को कुचल रही है उसे बखूबी वीडियो में देखा जा सकता है घटना में सियासत गर्म होने के बाद विपक्षी नेता लगातार बीजेपी सरकार को किसान विरोधी सरकार ठहराते हुए लगातार हमला कर रहे इस बीच घटना की रात रविवार से बुधवार तक उत्तर प्रदेश के सीतापुर में हिरासत में ली गई प्रियंका गांधी वाड्रा को राहुल गांधी के पहुंचने के बाद मुक्त कर दिया गया है राहुल गांधी लखनऊ में उतरने के बाद अपने काफिले जिसमें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी शामिल है के साथ घटनास्थल लखीमपुर खीरी के लिए सीतापुर होते हुए रवाना हुए हैं वही आम आदमी पार्टी के नेता राज्यसभा सांसद संजय सिंह भी घटनास्थल के लिए रवाना हुए हैं कल समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव लखीमपुर खीरी घटना के लिए जाएंगे हालांकि घटना के दूसरे दिन वह जा रहे थे उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा उत्तर प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टियों के सभी नेताओं को होमवर्क कर लिया गया जो आगे निकल गए थे उन्हें अगर के गेस्ट हाउस में रखा गया था अब धीरे-धीरे पूरे मामले सियासी रंग आने के साथ माहौल गर्म हो चुका है।

मिजोरम पत्नी को गले लगाकर पति ने खुद को बम से उड़ाया, दोनों की मौत

कैसे पहुंचा मामला सुप्रीम कोर्ट में, सुप्रीम कोर्ट ने किया स्वता संज्ञान

बता दे लखीमपुर खीरी हत्याकांड का सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सोता संज्ञान ले लिया है इसकी सुनवाई भी चीफ जस्टिस के साथ तीन सदस्य खंडपीठ गुरुवार से शुरू कर देगी मंगलवार को लखीमपुर खीरी मामले में एफआइआर दर्ज करवाने के लिए दो वकीलों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाकर कहां गया था 3 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों के विरोध प्रदर्शन के दरमियान इस घटना में गृह मंत्रालय और पुलिस को निर्देश दिया जाए कि एफ आई आर दर्ज करवाने के साथी संबंधित मंत्रियों पर दंडात्मक कार्रवाई की जाए और इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में उच्चस्तरीय न्यायिक टीम जिसमें सीबीआई को शामिल किया है के जरिए करवाई जाए ताकि निष्पक्षता बरकरार रहे।

विशाल गुप्ता की रिपोर्ट…

loading...