loading...

राजधानी लखनऊ के सरोजनी नगर तहसील में बनेगी स्वदेशी तकनीक से लैस ब्रह्मोस मिसाइल सरकार ने एक रुपए वार्षिक टोकन शुल्क में डीआरडीओ को 80 हेक्टेयर भूमि 100% स्टांप शुल्क फ्री देने के लिए विधानसभा में प्रस्ताव पास किया

राजधानी लखनऊ के सरोजनी नगर तहसील क्षेत्र में स्वदेशी तकनीक से लैस ब्रह्मोस मिसाइल का निर्माण डीआरडीओ द्वारा किया जाएगा। ब्रह्मोस उत्तर प्रदेश डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर की लखनऊ नोड में स्वदेशी तकनीक से विकसित होने वाली उच्च तकनीकी मिसाइल होगी, ब्रह्मोस को रूस के साथ मिलकर डीआरडीओ ने विकसित किया है वर्तमान समय में ब्रह्मोस मिसाइल का इस्तेमाल भारत की तीनों सेनाओं कर रही हैं भारतीय सेनाओं ने डीआरडीओ सेती 42000 करोड रुपए की 1600 मिसाइलों का ऑर्डर दिया हुआ है डीआरडीओ लखनऊ में ₹9300 का निवेश कर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराते हुए स्वदेशी तकनीक से उच्च मारक क्षमता की मिसाइल का उत्पादन करेगा इसके अतिरिक्त इस प्लांट से सूक्ष्म लघु एवं मध्यम इकाइयों की स्थापना के अवसर उपलब्ध होंगे इससे उत्तर प्रदेश सरकार के राजस्व में भी भारी बढ़ोतरी होनी तय है अभी इन मिसाइलों का निर्माण हैदराबाद नागपुर और पिलानी में हो रहा है 2024 25 से यूपी में हर साल लगभग 100 ब्रह्मोस मिसाइल बनेंगी इस तरह 4 वर्षों में 1450 करोड रुपए जीएसटी के तौर पर उत्तर प्रदेश सरकार के राजस्व खाते में जाएंगे।

सरोजनी नगर तहसील में 80 हेक्टेयर भूमि की गई चिन्हित

loading...

स्वदेशी तकनीक से ब्रह्मोस मिसाइल के निर्माण के लिए राजधानी लखनऊ के सरोजनी नगर तहसील में इस परियोजना के लिए 80 हेक्टेयर जमीन को चिन्हित किया गया है। और इस जगह के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन यानी डीआरडीओ ने हामी भर दी है उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने अपने नियमों में दिल देते हुए इस प्रोजेक्ट के लिए भूमि में स्टांप शुल्क में 100% यानी पूरी छूट प्रदान करते हुए 80 हेक्टेयर जमीन एक रुपए की लीज पर डीआरडीओ को देने की अनुमति दी है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में इस प्रोजेक्ट की 80 हेक्टेयर भूमि निशुल्क यानी केवल एक के वार्षिक टोकन शुल्क पर आवंटित की गई है भूमि खरीद के लिए 100% स्टांप ड्यूटी में छूट प्रदान करने को यूपी कैबिनेट से मंजूरी मिल गई है।

loading...