बिहार के पूर्वी चंपारण (मोतिहारी) जिले में हाथरस जैसी घिनौनी वारदात को दोहराया गया है यह 12 वर्षीय नाबालिक नेपाली मूल की बच्ची की 15 दिन पूर्व सामूहिक रूप से गैंगरेप के बाद निर्मम हत्या कर दी गई, जिसके बाद सुशासन बाबू की पुलिस की मदद से आरोपियों ने दबाव डालते हुए पीड़िता के शव को जबरन जलवा दिया। पूरे मामले का खुलासा उस समय हुआ, जब 5 फरवरी को रक्षक के भेष में बैठे वर्दीधारी गद्दारों और आरोपियों के बीच की ऑडियो वायरल हुई। इस ऑडियो को सुनने के बाद आप पूरा मामला बखूबी समझ सकते हैं कि किस तरह सुशासन बाबू की पुलिस की मिलीभगत से हैवानों ने हैवानियत भरी वारदात के बाद पीड़िता के शव को जबरन जलवा दिया, पीड़ित परिवार जब इंसाफ के लिए मामला दर्ज करवाने थाने गया तो आरोपियों पर कार्रवाई करने के बजाय थानाध्यक्ष संजीव कुमार रंजन ने लापरवाही के साथ वर्दी धारण करते वक्त ली गई शपथ से गद्दारी कर, आरोपियों का साथ देंते हुऐ मामले को रफा-दफा करवा, उल्टे पीड़ित पक्ष को वहां से भगा कर, एक और जख्म दे हैवानियत भरा काम किया, फिलहाल उनके इस हैवानियत भरे नृत्य के चलते उन्हें सस्पेंड किया गया है। पीड़िता के परिवार के आरोप बेहद गंभीर है आरोपों के मुताबिक दरिंदों ने दरिंदगी के बाद पुलिस की मदद से (पीड़ित) परिवार को घर में बंधक बनाकर दबाव डालते हुए जबरन पीड़िता के शव को जला दिया। वह अंतिम संस्कार भी नहीं कर सके,

गैंगरेप मामले में 2 फरवरी को एफ़आईआर दर्ज होने के बाद, बीती 5 फरवरी को एक ऑडियो वायरल हुआ जिसमें 21 जनवरी को कुंडवा चैनपुर के थानाध्यक्ष संजीव कुमार रंजन और एक आरोपी रमेश साह के बीच की बातचीत है, इस बातचीत में थानाध्यक्ष संजीव कुमार, आरोपी रमेश साह से कह रहे हैं, कि “लकड़ी की व्यवस्था कर दो और ये लिखवा लो कि लड़की ठंड से मर गई.”| पूरे मामले को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने प्रदेश की नीतीश सरकार पर नाकामी का ठीकरा फोड़ते हुए निशाना साधा

ऑडियो वायरल होने के बाद हैवानियत में पुलिस की मिलीभगत का हुआ खुलासा, थानेदार संजीव रंजन निलंबित, जांच जारी

पूरी वारदात 15 दिन पुरानी यानी कि 21 जनवरी की है इस वारदात का खुलासा 5 फरवरी को आरोपियों के साथ थानेदार संजीव रंजन की ऑडियो बातचीत वायरल होने के बाद हुआ पूरे मामले पर एसपी नवीन चंद्र झा ने बताया कि हत्या की बात थानेदार को पता थी इसके बावजूद उन्होंने ना ही, शव को बरामद कर पोस्टमार्टम करवाया, ना ही कोई एफ आई आर दर्ज कराई, ना ही उन्होंने इसकी सूचना वरीय अधिकारी को दी एसपी के मुताबिक थानेदार संजीव कुमार रंजन को सस्पेंड कर आरोपियों के साथ थानेदार की गतिविधियों की जांच कर अगली कार्रवाई की जाएगी।

क्या है पूरा मामला, क्यों घटना के 12 दिन बाद दर्ज हुई F:I:R

नेपाल की बारबादिया नगरपालिका क्षेत्र के रहने वाली पीड़िता के पिता ने बताया कि कि वह करीब 7 साल से मोतिहारी के कुंडवा चैतपुर क्षेत्र में रहकर मजदूरी का काम करते थे या दर्दनाक वारदात करीब 15 दिन पहले 21 जनवरी को उस समय घटित हुई जब उनकी पत्नी नेपाल के अपने गांव यानी मायके गई हुई थी वह मजदूरी करने के लिए बाहर गए लड़का चाय बेचने के लिए बाजार गया हुआ था। पीड़िता के पिता ने पूर्वी चंपारण के सिकहना के अनुमंडल पदाधिकारी को दी गई रिपोर्ट में बताया कि शाम 4:00 बजे के करीब मेरा बेटा बाजार से लौटा तो हमारे मकान मालिक सियाराम साह ने उसे रोका लेकिन वाह रुका नहीं उसने उनकी बात को अनसुना कर घर गया वहां पर उसकी बहन जमीन पर घायल पड़ी थी यह देखने के बाद वह मुझे बुला कर लाया मैं उसे इलाज के लिए स्थानीय चिकित्सालय के पास लेकर गया लेकिन किसी ने इलाज नहीं किया, पीड़िता के पिता जोकि गार्ड की नौकरी करते हैं उन्होंने एफ आई आर में आरोप लगाया है कि उसकी नाबालिग बेटी को घर में अकेला पाकर है वालों ने गैंगरेप के बाद उसकी हत्या कर दी, एफ आई आर के मुताबिक पीड़िता के पिता ने बताया कि घटना दबाने के लिए आरोपियों के करीबी हरि किशोर साह विनय सहा व रमेश शाह समेत एक दर्जन के करीब लोगों ने उन्हें चुप रहने का दबाव डालकर मोबाइल छीन घर में बंद कर धमकी दी कि यदि शव जल्दी नहीं जलाया तो तुमको और तुम्हारे बेटे को मारकर नेपाल में फेंक देंगे, जिसके बाद सादे कागज़ पर अंगूठा लगवा रात बारह बजे के करीब जबरन पोखर रोड में सड़क के किनारे नाबालिग पीड़िता के शव को जबरन जलवा कर धमकी देते हुए उनके बेटे के साथ सुबह नेपाल की तरफ भगा दिया। जिसके बाद व नेपाल अपने चले गए 2 फरवरी को वापस आने के बाद उन्होंने सीकरहना के डीएसपी से शिकायत की डीएसपी के दखल देने के बाद 3 फरवरी को मकान मालिक के लड़के विनय शाह के साथ देवेंद्र कुमार रमेश कुमार दीपक कुमार रेप के साथ डराने धमकाने की धाराओं में मामला दर्ज किया गया पीड़िता के पिता ने पूरे मामले में कुंडवा चैनपुर थाना क्षेत्र में मकान मालिक के लड़के समेत कुल 1 दर्जन लोगों पर मामला दर्ज करवाया गया है जिनमें से उनके मकान मालिक सिया राम साह और उनके बेटे विनय शाह को पुलिस ने फिलहाल गिरफ्तार कर लिया है।

कुंडवा चैनपुर में केस संख्या 21 /21 दिनांक 02.02.2021 आई पी सी की धारा 149/342/450/376(डी,बी),120(बी)/302/201 के तहत 11 लोगों को नामजद अभियुक्त बना मामला दर्ज किया गया है, दिन में चार पर 376D गैंगरेप की धारा व हत्या की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here