loading...

एशियाई देश म्यांमार में इस साल फरवरी महीने में सेना के जनरल मिंग आंग व्हाइंग ने सैन्य पलट करते हुए मौजूदा प्रधानमंत्री आंग सान सूची को गिरफ्तार कर उनके समर्थकों समेत डेमोक्रेसी चाहने वाले नेताओं को जेल में डाल दिया है सैन्य तख्तापलट को लेकर भारी विरोध प्रदर्शन के बीच हिंसा हुई आर्मी ने शूटआउट करते हुए भारी संख्या में आंदोलनकारियों को उपद्रवही बताते हुए मार गिराया। तख्तापलट की अगुवाई करने वाले जनरल मिंग आंग व्हाइंग ने खुद को प्रधानमंत्री घोषित करते हुए म्यांमार में अगले 2 साल यानी अगस्त 2023 तक आपातकाल बढ़ाए जाने के संकेत दिए हैं। इसी के साथ उन्होंने 1 घंटे लंबे भाषण में स्वतंत्र निष्पक्ष बहुदलीय चुनाव कराने का वादा किया है। म्यांमार के अधिकतर लोग इस वादे को केवल छलावा मान रहे हैं वहीं जर्नल मिंग आंग व्हाइंग ने कहा कि सेना ने जिस चुनी हुई पार्टी यानी आंग सांग सूची की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी को सत्ता से बेदखल किया वह आतंकवादी पार्टी थी। मौजूदा सैन्य तानाशाह यानी जर्नल मिंग आंग व्हाइंग ने एनएलडी यानी चुनी हुई सरकार के समर्थकों को उग्रवादी करार दिया है। फिरहाल फरवरी में सत्ता की अगुवाई कर रही सरकार को बेदखल करने के बाद सरकार की मुखिया आंग साग सूची को गिरफ्तार कर जेल में भेज दिया गया है दूसरी तरफ म्यांमार की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा चुकी है

loading...

कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं लगातार लोगों का विरोध प्रदर्शन सेना के खिलाफ है तख्तापलट के विरोध में प्रदर्शन करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों समेत तमाम प्रदर्शनकारियों को सड़क पर गोली मार दी गई। ऐसे वीडियो समय-समय पर सामने आते रहे हैं दूसरी तरफ म्यांमार भीषण कोविड-19 महामारी से जूझ रहा है वहां पर आने वाले लोगों को आर्मी वापस लौट आ रही है ऑक्सीजन स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में लोग घरों में दम तोड़ रहे हैं दूसरी तरफ तख्तापलट करने वाले जनरल ने कहा कि तख्तापलट के विरोधियों ने जानबूझकर कोविड-19 फैलाया है। बता दे आर्मी जर्नल मिंग आंग व्हाइंगमिंग अगस्त 2023 में निष्पक्ष बाहुदलिय निर्णयक चुनाव कराने के अपने वादे को दोहराते हुए प्रक्रिया को पूरा करने के लिए दो साल की समय सीमा निर्धारित की है वही आर्मी जनरल ने खुद की अगुवाई में रविवार को कार्यवाहक सरकार का गठन किया है।

लोकतंत्र को बर्खास्त कर लोकतंत्र समर्थक नेताओं को जेल में डालने के बाद देश में इमरजेंसी लागू कर आर्मी जनरल ने सीधे सैन्य तानाशाही लागू कर दी है जिसकी आड़ में विरोध करने वाले हर शख्स को निर्दयता से कुचला जा रहा है यह वहां के स्थानीय लोगों के गंभीर आरोप है यह मौजूदा बद से बदतर है दूसरी तरफ स्वास्थ्य व्यवस्था चौपट हो चुकी है इलाज कराने जाने वाले लोगों को अस्पताल से भगा दिया जा रहा है सड़क पर हालात आज भी बद से बदतर नजर आ रहे हैं साम दाम दंड भेद रणनीति कूटनीति किसी भी तरीके से जनरल आपातकाल का सहारा लेकर अपनी सत्ता चलाने की भरपूर कोशिश कर रहे हैं दूसरी तरफ लोकतांत्रिक जनता जल्द से जल्द चुनाव कराए जाने या पुरानी सरकार को बहाल करने की मांग कर सड़कों पर उतर रही है बरहाल हर तरफ प्रदर्शनकारियों पर कठोर कार्रवाई करते हुए उन्हें निर्दयता से कुछ ले जाने की तस्वीरें सामने आ रही है जिन्हें दिखाया भी नहीं जा सकता है म्यांमार में अधिकतर लोगों को घरों में कैद कर विरोध प्रदर्शन से दूर करने की कोशिश की जा रही है सड़क की स्थिति मौजूदा हालात बयां कर रही है।

loading...

वहां के स्थानीय पत्रकार की टि्वटर पोस्ट को पढ़कर हालात समझने की कोशिश करिएगा- ऊपर कोविड-19 के हालात नीचे सैन्य हालात। क्रेडिट स्थानीय पत्रकार

loading...

अधिक जानकारी यानी म्यामार के हालात समझने के लिए नीचे की पोस्ट जमीनी अस्तर को समझने की कोशिश करिएगा विस्तृत जानकारी है।

loading...