loading...

1 वर्ष से अधिक समय से विवादित चल रहे तीनो कृषि के काले कानूनों को हटाने की मांग व एमएसपी को लेकर किसान आंदोलन रखें, सैकड़ों की संख्या में किसानों की शहादत के बाद आंदोलनकारियों की मेहनत रंग लाई केंद्र की नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने किसानों की मांग के आगे आत्मसमर्पण करते हुए तीनों कृषि काले कानूनों को वापस करने का ऐलान किया है इस पर किसानों की प्रतिक्रिया भी आई है कि जब तक एमएसपी को लेकर कानून नहीं बन जाता और संसद से प्रस्ताव पारित कर तीनों कानूनों को वापस हटा नहीं लिया जाता तब तक वह औपचारिक रूप से आंदोलन जारी रखेंगे। सरकार के ऐलान के बाद किसानों में खुशी की लहर है वह जगह जगह पर मिठाई और जलेबियां बांट रहे हैं।

गुरु नानक जयंती पर राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 वर्ष से अधिक समय से विवादों से घिरे तीनों ने कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा करते हुए देश से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगी है।

loading...

प्रधानमंत्री ने संबोधन की शुरुआत करते हुए कहा- मैं देश से माफी मांगता हूं क्योंकि लगता है कि हमारे प्रयासों में कुछ कमी रह गई है जिसके कारण हम कुछ किसानों को सच्चाई समझा नहीं सके, प्रधानमंत्री ने इसके लिए देश को संबोधित करते हुए बताया तीनों विवाद से घिरे कृषि कानूनों को संसद के आगामी सत्र में विधेयक लाकर वापस कर लिया जाएगा साथ में न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी से जुड़े मुद्दे पर एक समिति बनाने की घोषणा की बात उन्होंने कही है।

loading...

loading...

बता दे देश में तीनों कृषि कानूनों का विरोध करते हुऐ किसानों ने इन्हें किसान विरोधी काले कानूनों की संज्ञा देते हुए लगातार 1 साल से अधिक समय से विरोध करते हुए लगभग 1 साल से आंदोलनरत थे जिसको लेकर सैकड़ों किसानों ने अपनी कुर्बानी दी लगातार विवादों से घिरे कानून के बचाव में तमाम अपने आप को राष्ट्रवादी पत्रकार कहने वाले पत्रकारों ने भी सरकार के पक्ष में खुलकर बैटिंग की लगातार आंदोलनरत किसानों ने काले कानूनों का विरोध करते हुए संसद तक जाने की बात की इस बीच आंदोलन के कारण बाधित हुए रास्ते को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर खोलना पड़ा जबकि किसानों ने कहा रास्ते को उन्होंने नहीं बंद किया था बैरिकेडिंग लगाकर सरकार ने बंद किया था वह बैरिकेडिंग खोल दे, हम संसद तक जाएंगे।

अपडेट-राकेश टिकैत ने पालघर से मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि जब तक संसद से प्रस्ताव पास नहीं हो जाता तब तक किसान आंदोलन वापस नहीं होगा सुने किसान नेता राकेश टिकैत ने आखिर क्या कहा

किसान आंदोलन की सफलता के बाद विपक्षी होने केंद्र की मोदी सरकार पर सियासी हमला बोला है और नीचे कुछ सियासी प्रहार के ट्यूट—

Credit-sambandhit Twitter account

loading...