loading...

संगम नगरी प्रयागराज के फाफामऊ थाना क्षेत्र के मोहनगंज फुलवारी गोहरी गांव में अनुसूचित जनजाति के एक ही परिवार के 4 लोगों की धारदार हथियार से निर्मम हत्या कर दी गई मरने वालों में 50 वर्षीय पति फूलचंद 45 वर्षीय उनकी पत्नी 13 वर्षीय पुत्र व 17 वर्षीय पुत्री शामिल है।

loading...

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले के फाफामऊ थाना क्षेत्र के गोहरी गांव में बुधवार देर रात बदमाशों ने एक ही परिवार के 4 लोगों की धारदार हथियार से निर्मम हत्या कर दी पूरे मामले की जानकारी के बाद इलाके में सनसनी फैल गई मरने वाले में गोहरी गांव के रहने वाले 50 वर्षीय फुल चंद 45 वर्षीय उनकी पत्नी मीनू और 17 वर्षीय बेटी सपना और 12 वर्षीय पुत्र शिवा की बदमाशों ने धारदार हथियार से निर्मम हत्या कर दी है। गंगा पार के फाफामऊ इलाके के मोहनगंज फुलवारी स्थित गोहरी गांव में गुरुवार की सुबह एक ही परिवार के 4 लोगों के खून से लथपथ शव देखने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई ग्रामीणों ने आनन-फानन में पुलिस को सूचना दी पुलिस ने मौके पर डाग स्क्वायड की टीम के साथ पहुंचकर हत्यारों की जांच शुरू कर दी है पूरे मामले में स्थानीय लोगों के मुताबिक सभी की हत्या बुधवार देर रात की गई है। बता दे गंगा पार इलाके में पिछले कई सालों से सामूहिक हत्याएं की घटनाएं बढ़ रही है फिलहाल पूरे मामले में पुलिस आरोपी परिवार से भी पूछताछ कर रही है।

गुरुवार को जानकारी के बाद आईजी रेंज प्रयागराज डीआईजी एसएसपी प्रयागराज एसपी गंगापार सीओ सोरवां के साथ अन्य थानों की फोर्स पहुंच गई है।

पुलिस अधिकारियों ने बारीकी के साथ घर और आसपास खेत में छानबीन की लेकिन अभी पृथ्वी का स्तर पर कोई सुराग हाथ नहीं लगा है वहीं ग्रामीणों के मुताबिक किशोरी के शरीर पर कपड़े नहीं होने से उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की आशंका है फिर हार पूरे मामले में खोजबीन के साथ पुलिस जांच कर रही है।

loading...

बता दे मृतक का परिवार पिछले 2 दिनों से नहीं निकला था यानी उन्हें 2 दिनों से किसी ने नहीं देखा था सुबह घर का दरवाजा खुले होने पर पड़ोस में रहने वाले लड़के ने अंदर झांका तो से घटना की जानकारी हुई जिसके बाद उसने जानकारी दी जबकि घर वालों ने गांव के ही एक अन्य परिवार पर विवाद की दुश्मनी के चलते घटना को अंजाम देने का आरोप लगाया है पुलिस कई बिंदुओं पर जांच कर रही है।

loading...

ग्रामीणों के मुताबिक मंगलवार को आखरी बार उनके बेटे शिव को देखा गया था बुधवार को पूरे दिन घर से कोई बाहर नहीं निकला बृहस्पतिवार की सुबह घर के पास से गांव के चार्ट बेचने वाले संदीप कुमार गुजर रहे थे घर का दरवाजा खुला देखा तो वह भीतर झांकने गए कोई नहीं दिखा तो उसने कुछ दूर पर फूलचंद के भाई किशन को सूचना दी जो बीएसएफ में तैनात है कुछ दिन पहले छुट्टी पर घर पर आए हुए थे किशन ने बताया जब वह घर के भीतर पहुंचे घर का दृश्य देखकर उनके होश उड़ गए बरामदे में दो अलग-अलग चारपाई ऊपर फुल चंद्रा और उनकी पत्नी मीनू और और पुत्र शिव और पुत्री सपना के शव पड़े हुए थे।

रस्ते की जमीन को लेकर हुआ था विवाद, अन्य बिंदुओं पर भी जांच जारी

मृतक के परिजनों का आरोप है कि रास्ते की जमीन के विवाद को लेकर गांव के ही कुछ दबंगों से काफी समय से विवाद चल रहा था कई बार रास्ते को एक लेकर लड़ाई हो चुकी है वह अक्सर जान से मारने की धमकी दिया करते थे जिस पर उन्होंने मुकदमा भी लिखवाया था लेकिन सुनवाई नहीं हुई जबकि मृतक के भाई किशन ने आरोप लगाते हुए कहा कि इसी रंजिश में इस जगह ने हत्याकांड को अंजाम दिया गया है वहीं मृतक फूलचंद के एक अन्य भाई लालचंद ने भी हत्याकांड को अंजाम देने के शक में 11 लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर दी है।

परिजनों की तहरीर पर नामजद मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है वह इस मामले में जमीन की रंजिश के अलावा कई अन्य बिंदुओं पर भी जांच पड़ताल की जा रही है डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के मुताबिक दुष्कर्म समेत अन्य बातें पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगी।

loading...