बिहार के जाने माने नरेगा में नाम से विख्यात रघुवंश प्रसाद का आज राजधानी दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में 74 वर्ष की उम्र में निधन हो गया, कई दिनों से गंभीर बीमारी के चलते उनका आईसीयू में इलाज चल रहा था इसी दौरान 10 सितंबर को उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद इस्तीफा दिया था।

पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ रघुवंश प्रसाद सिंह ने रविवार दिल्ली एम्स हॉस्पिटल में आखिरी सांस ली। बता दे शनिवार उनकी तबीयत बिगड़ने के बाद वेंटीलेटर पर रखा गया था। हाल ही में उन्होंने 10 सितंबर को लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल से इस्तीफा दिया था। बता दे रघुवंश प्रसाद जमीन से जुड़े व्यक्तित्व वाले गरीबी को समझकर जमीनी स्तर से संघर्ष कर अर्श से फर्श तक पहुंचने वाले बेदाग किसानों के नेता थे। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गृह मंत्री अमित शाह राष्ट्र जनता दल के लालू यादव व उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री समेत दिग्गज हस्तियों ने ट्वीट कर शोक जताते हुए इसे अपूर्ण क्षति बताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा

रघुवंश प्रसाद सिंह अब हमारे बीच नहीं रहे मैं उनको नमन करता हूं उनके निधन ने बिहार के साथ देश के राजनीतिक क्षेत्र में एक शून्य छोड़ दिया प्रधानमंत्री ने आगे लिखा वह जमीन से जुड़ा व्यक्तित्व गरीबी को समझने वाला बच्ची तो पूरा जीवन बिहार के संघर्ष में बिताया,
वहीं केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने रघुवर दास के निधन पर संवेदना व्यक्त करते हुए लिखा-

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवश के बेहद करीबी लालू यादव ने कहा कि मैंने परसों ही आपसे कहा था आप कहीं नहीं जा रहे, लेकिन आप इतनी दूर चले गए, लालू यादव ने ट्वीट कर लिखा-

जिस तरह धीरे-धीरे रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन की खबर पहुंची श्रद्धांजलि देखकर शोक जताने वाले राजनेताओं की झड़ी लग गई-

बता दें आज ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार से जुड़ी पेट्रोलियम मंत्रालय की 901 करोड रुपए की 3 परियोजनाओं का इलेक्ट्रॉनिक ज्ञानी वर्चुअल समारोह के जरिए शुभारंभ किया इन सबके बीच उन्हें जमीन से जुड़े प्रगतिशील नेता रघुवंश प्रसाद के निधन की खबर मिली उन्होंने इस पर संवेदना व्यक्त करते हुए ट्वीट किया-

बता दे 3 दिन पहले 10 सितंबर को आई शुरू से ही उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद इस्तीफा दिया था। रघुवंश प्रसाद सिंह का आज 74 वर्ष की उम्र में दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस एम्स में निधन हो गया। बता दे आई शुरू से ही 10 सितंबर को इस्तीफा समेत कई पत्र मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए लिखे गए थे जिनमें उनके कर्म क्षेत्र वैशाली को लेकर चिंता की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here