राजस्थान के अलवर जिले के नीमराणा उपखंड के रायसाराना राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल में राजनीतिक विज्ञान में तैनात व्याख्याता देव प्रकाश यादव द्वारा विगत कई वर्षों से 12वीं की छात्राओं को फेल करने की धमकी देकर अश्लील हरकत करते हुए छात्राओं को अकेले कमरे में बुलाकर शारीरिक संबंध बनाने का दबाव डाले जाने के गंभीर आरोप लगने के बाद मामले की जांच की जांच की गई। जिसमें यह बात साबित भी हुई है। उच्च अधिकारियों ने पूरे मामले में जांच के बाद शिक्षक को दोषी पाया और रिपोर्ट को जांच के बाद कलेक्टर को सौंप दी है। छात्राओं ने बताया कि शिक्षक उन्हें फेल करने की धमकी देने के बाद अकेले कमरे में बुलाकर शारीरिक संबंध बनाने के दबाव के साथ छेड़छाड़ कर, ऐसी बातें करते थे जिसे बताने में हमें शर्म आती है। इसलिए हम भी बातें आपको बता भी नहीं सकते। पूरे मामले की जानकारी के बाद खंड शिक्षा अधिकारी राजकुमार यादव ने जांच कर रिपोर्ट उच्च अधिकारियों को सौंपा है।

एसडीएम देवल शुक्रवार को शिकायत के बाद खुद जांच के लिए स्कूल पहुंचे

स्कूल में राजनीतिक विज्ञान के शिक्षक की हैवानियत के मामले की जानकारी के बाद एसडीएम नीमराणा योगेश देवल 1 दिन के लिए स्कूल का निरीक्षण कर पूरे मामले में खंड शिक्षा अधिकारी राजकुमार यादव को शिक्षक की ओर से छात्राओं द्वारा की जा रही छेड़खानी की शिकायत मिलने के बाद रिपोर्ट तलब की, जिसके बाद उन्हें रिपोर्ट भेजी गई है, उन्होंने पूरी रिपोर्ट के आधार पर खुद स्कूल पहुंचकर निरीक्षण किया,उन्होंने छात्रों और उनके परिजनों के बयान लेकर उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट भेजी है जिसके बाद अधिकारियों को पूरी घटना से अवगत कराया गया, उनके मुताबिक आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

निरीक्षण के दौरान कक्षा बारहवीं की छात्राओं ने राजनीतिक विज्ञान के शिक्षक देव प्रकाश यादव पर बेवजह गलत इरादों से छेड़छाड़, अकेले कमरे में बुलाकर अश्लील बातचीत, फेल करने की धमकी दे शारीरिक संबंध बनाने को मजबूर करने संबंधित गंभीर आरोप लगाने के साथ पीड़ित छात्राएं रोने लगी, उन्होंने बताया कि स्कूल में राजनीतिक विज्ञान के शिक्षक देव प्रकाश यादव द्वारा परेशान किया जाता है उनका राजनीतिक विज्ञान के शिक्षक द्वारा मानसिक शोषण के साथ गंदी बातें की जाती है। जांच के दौरान जानकारी मिली कि एक-दो दिन से ये सब नहीं चल रहा था स्कूल में छात्राओं के साथ ये हरकतें करीब डेढ़ सालों से चल रही थी पूरे मामले में कई बार शिकायत मिलने के बावजूद राजनीतिक विज्ञान के व्याख्याता देव प्रकाश यादव जो कि कांडला के रहने वाले हैं के प्रधानाध्यापक से मित्रता की वजह से पूरे मामले में लीपापोती करते हुए स्कूल में ही शिकायतों को रफा-दफा कर खानापूर्ति की जाती रही है। कभी भी पूरे मामले की रिपोर्ट उच्च अधिकारियों के पास नहीं भेजी गई। बालिकाओं पर भी दबाव होता था बदनामी व कैरियर तबाह होने का, फिर हाल पूरे मामले में अध्यापकों द्वारा पूरी बात को इस बार भी पुरजोर तरीके से रफा-दफा करने की कोशिश की गई थी। लेकिन पानी सर के ऊपर बढ़ने के बाद मामला परिजनों तक पहुंचा जिसके बाद लिखित में शिकायत की गई। शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई कर जांच एसडीएम को सौंप दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here