झारखंड के दुमका जिले में एक हैवानियत कि शर्मसार कर देने वाली वारदात सामने आई है जहां स्थानीय हट (market) से रात 8:00 बजे के करीब अपने पति के साथ लौट रही महिला को 17 लोगों द्वारा रोककर उसके साथ हैवानियत की घटना को अंजाम देने की कोशिश की गई।

झारखंड के दुमका के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में बुधवार को एक (30 वर्षीय आदिवासी) महिला ने अपने साथ 17 लोगों द्वारा गैंगरेप किए जाने का खुलासा करते हुए मामला दर्ज करवाया है, महिला ने बताया उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की यह घटना उस समय हुई जब वह अपने पति के साथ मंगलवार की रात 8:00 बजे के करीब गांव के पास बाजार (हट) से लौट रही थी। इसी दौरान नशे में धुत 17 लोगों ने उसका रास्ता रोक कर बंधक बना लिया उनमें से 5 लोगों ने उसे झाड़ियों में खींच कर हैवानियत की जबकि अन्य उसके पति के साथ बच्चों को बंधक बनाए हुए थे। महिला ने सभी पर बलात्कार करने की कोशिश करने की तहरीर दी है। पुलिस ने सामूहिक बलात्कार पीड़िता को मेडिकल जांच के लिए भेज कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया है जबकि अन्य 16 आरोपियों की तलाश पुलिस द्वारा की जा रही है।

डीआईजी सुदर्शन मंडल ने कहां की पूरे मामले की जांच जारी है किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। महिला के बयान के अनुसार वह अपने पति के साथ मंगलवार रात गांव बाजार से लौट रही थी उस समय 17 लोगों ने उसे रोका और उसके पति को बंधक बना लिया, मंडल ने बताया कि महिला दूसरे क्षेत्र में रहती है वह अपने माता-पिता के घर धान की फसल में मदद कराने के लिए आई थी।

पूरी घटना को लेकर विपक्षी बीजेपी के प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने मौजूद सत्ताधारी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में अराजकता व्याप्त है कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है यह जंगलराज है और यह एक शैतानी करते हैं उन्होंने पूरे मामले में आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग करते हुए पूरे मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से पीड़िता को न्याय दिलाने कि सरकार से मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here