मध्य प्रदेश बेटियों के साथ होने वाली दरिंदगी की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही। मध्यप्रदेश के उमरिया के सुभाष गंज में किराए का मकान लेकर रहने वाली 13 वर्षीय नाबालिक बच्ची 11 जनवरी को बाजार की ओर जाने के बाद गुमशुदा हो गई। जिसे अगवा कर उसके साथ एक-एक कर कुल 9 लोगों लोगों द्वारा हैवानियत यानी कि गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया। पीड़िता के मुताबिक वह 4 दिन बंधक रहने के बाद आजाद हो किसी तरह घर पहुंची तो उसने पूरी वारदात परिजनों को बतायाी। जिसे सुन परिजनों के होश उड़ गए। पूरे मामले में शिकायत करने के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अब तक 9 में से 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि दो आरोपी दरिंदे अभी भी फरार है।

क्या है पूरा मामला

मध्य प्रदेश के उमरिया कोतवाली थाना क्षेत्र के सुभाष गंज इलाके में किराए के मकान में रहने वाली 11 वर्षीय नाबालिक बच्ची जो 11 जनवरी को गायब हो गई। बच्ची के मुताबिक उसे (अज्ञात लोगों) दो ट्रक ड्राइवरों द्वारा बाजार से अपहरण कर लिया गया, दूसरी तरफ देर रात तक बच्ची के घर ना पहुंचने पर पीड़िता की मां ने 12 जनवरी को अपनी बच्ची की गुमशुदगी की शिकायत पुलिस में दर्ज करवाई। पूरे मामले का खुलासा उस समय हुआ जब 16 जनवरी को नाबालिक लौटकर अपनी मां के पास आकर उसने अपने साथ हुई दरिंदगी का खुलासा किया।

पुलिस ने मामला दर्ज कर 9 दरिंदों में से 7 को गिरफ्तार किया, दो की तलाश जारी

जानकारी के मुताबिक नाबालिग के साथ दरिंदगी की घटना की जानकारी के बाद मामला दर्ज कर आनन-फानन में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने 9 में से 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। नाबालिक बच्ची ने बताया कि वह 11 जनवरी को बाजार निकली थी उसी समय दो ट्रक ड्राइवरों ने उसका अपहरण कर जंगल में ले जाकर रेप किया। फिर जिला मुख्यालय के पास स्थित ढाबा पर ले जाकर दोबारा उसके साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया। पीड़ित बच्ची ने बताया कि जिसके बाद ट्रक ड्राइवर के साथ मिलकर ढाबा मालिक और चार ट्रक ड्राइवरों ने भी एक-एक कर उसके साथ दरिंदगी यानी कि गैंगरेप की घटना को अंजाम दे रात में उसे हाईवे पर छोड़ दिया, जिसके बाद उमरिया की तरफ से जा रहे ट्रक ड्राइवर ने उसे अपनी गाड़ी में बिठाया और उसके साथ रेप किया, फिर ट्रक ड्राइवर ने उसे उमरिया के पास छोड़ दिया। पीड़िता ने बताया कि आरोपियों ने उसे 4 दिन तक बंधक बनाए रखा इस बीच मदद के नाम पर उसके साथ कुल मिलाकर 9 लोगों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया। विगत 24 घंटे में उसके साथ तीन बार हैवानियत की घटना को अंजाम दिया गया,

16 जनवरी को नाबालिक बचते बचाते घर पहुंची, तब हुआ मामले का खुलासा, पहले जहां मांगी मदद वहां हुआ गैंगरेप

नाबालिक 16 जनवरी को आरोपियों के चंगुल से बचते-बचाते नाबालिग गैंगरेप पीड़िता घर पहुंची जिसके बाद उसने पूरे मामले की जानकारी परिजनों को दी। परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए 9 में से 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है पीड़िता ने बताया कि सबसे पहले उसे २ ट्रक ड्राइवर ने अगवाकर रेप के बाद ढाबा पर ले जाकर ढाबा मालिक के साथ मिलकर कुछ मिलाकर 5 लोगों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया उसके बाद उसे अलग-अलग जगह पर सुनसान इलाके में लगभग 4 दिन तक बंधक बनाकर हैवानियत की घटना को अंजाम दिया जाता रहा।

पुलिस के मुताबिक नाबालिग गैंगरेप पीड़िता नवी क्लास की छात्रा है वह 11 जनवरी को बाजार के लिए निकली थी जिसके बाद दो ट्रक ड्राइवर ने उसका अपहरण कर जंगल की ओर रेप की घटना के बाद दूसरी बार ढाबे पर ले जाकर ढाबा मालिक के साथ कुल 4 ड्राइवरों ने हैवानियत की घटना को अंजाम देते हुए गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया जिसके बाद उसे उमरिया की ओर जा रही गाड़ी में बिठा कर फिर उसके साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया। जिसके बाद आरोपी ने उसे उमरिया के पास छोड़ दिया जिसके बाद उसे पुलिस दिखाई दी पीड़िता ने किसी प्रकार पुलिस से संपर्क करने के बाद घर पहुंच कर पूरा मामला परिजनों को बताया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here