loading...

सऊदी अरब से भाई के निकाह के लिए अवैध तरीके से नेपाल होते हुए फर्जी दस्तावेजों के सहारे भारत में प्रवेश कर उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में आए सऊदी अरब के दो नागरिकों समेत स्थानीय सहयोगी को पुलिस ने जांच कर बयान दर्ज कराते हुए जेल भेजा। अन्य बिंदुओं की जांच जारी….

भाई के निकाह के लिए सऊदी अरब से 19 जुलाई को टूरिस्ट वीजा पर नेपाल आकर वहां सहयोगी के माध्यम से फर्जी दस्तावेजों के सहारे बिना वीजा के अवैध दस्तावेजों के साथ अवैध तरीके से भारत में दाखिल हुए सऊदी अरब के थाना कमील जिला जेद्दा के मूल निवासी नईफ मोहम्मद महाजारी व उसकी बहन नौरा महाजारी उत्तर प्रदेश के फतेहपुर की बिंदकी कोतवाली के खजुहा गांव के कटरा मोहल्ले में रहने वाले जीशान के घर आए हुए थे जहां 24 जुलाई को बहन-भाई अपने भाई का 5 अगस्त को निकाह कराने के लिए अवैध तरीके से आकर तब से वह वहां अवैध तरीके से रखे हुए थे। बता दे बिंदकी कोतवाली निवासी जीशान ने बातचीत में बताया कि वह सऊदी अरब में ड्राइवर की नौकरी करता है वह सऊदी अरब के थाना कामिल जिला जेद्दा के रहने वाले नाईफ मोहम्मद महजरी की कार चलाने का काम करता था वही उसकी मुलाकात नाईफ की बहन नौरा महाजारी से हुई आपसी बातचीत के बाद उसने नाईफ के साथ अपनी बहन आलिया का निकाह तय कर दिया। 5 तारीख को उसके निकाह की तारीख तय हुई। इस निकाह के लिए सऊदी अरब निवासी भाई-बहन नेपाल के रास्ते टूरिस्ट वीजा के सहारे 19 जुलाई को नेपाल पहुंचे। जहां पर वह उन दोनों को लेने के लिए नेपाल गया। वह फर्जी दस्तावेज आधार कार्ड दिखाकर सुनौली चेक पोस्ट से उन दोनों को लेकर 24 जुलाई को भारत में दाखिल होने के बाद सीधे (बिंदकी कोतवाली के खजुहा)घर ले आया।

loading...

दो अवैध सऊदी अरब के नागरिकों के आने की जानकारी पर, पुलिस ने जीशन समेत दोनों अवैध नागरिकों को गिरफ्तार कर जेल भेजा

पुलिस को क्षेत्र में अवैध तरीके से आये सऊदी नागरिकों के बारे में जानकारी मिली तो उन्होंने जानकारी की पुष्टि करते हुए गुरुवार की सुबह जीशान के साथ तीनों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पुलिस को पता चला कि जीशान की बहन की निकाह की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं जिसका 5 अगस्त को नाईफ के साथ निकाह प्रस्तावित था दोनों भाई बहन अरबी में बात कर रहे थे इसलिए पुलिस ने ट्रांसलेटर के माध्यम से सऊदी निवासी भाई बहन के बयान दर्ज कर भारत में अवैध तरीके से आए भाई बहन के साथ जीशान समेत तीनों के खिलाफ फर्जी दस्तावेज तैयार करने व विदेशी अधिनियम 1946 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया है क्योंकि भाई बहन केवल अरबी जानते थे इसलिए उसी गांव में अरबी व हिंदी दोनों भाषाओं को अच्छी तरह से जानने वाले ट्रांसलेटर की मदद से पुलिस ने दोनों सऊदी नागरिकों के बयान दर्ज कर कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया है। स्थानी पुलिस के मुताबिक इस मामले में संबंधित टीमों से जांच कराई गई है तीनों का किसी आपराधिक मामले में शामिल होना नहीं पाया गया है इसलिए प्रथम दृष्टि आरोपी भाई-बहन निकाह के उद्देश्य से नेपाल के रास्ते अवैध तरीके से चोरी-छिपे भारत में प्रवेश कर आए थे यही उनका अपराध है अन्य बिंदुओं की जांच करते हुए संदिग्धता की पड़ताल कर जांच की जा रही है….।

Photo credit social media

loading...

विशाल गुप्ता की रिपोर्ट….

loading...