loading...

लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को लगाई फटकार लगाते सख्त टिप्पणी कारते हुए कहा धारा 302 के बाद भी गिरफ्तारी क्यों नहीं हूई ? सीधे शब्दों में SC ने कहा 302 (हत्या) का मुक़द्दमा दर्ज होने के हालत में पुलिस क्या करती है ?

हम ज़िम्मेदार सरकार और ज़िम्मेदार पुलिस देखना चाहते हैं।

loading...

अभियुक्त जो भी हो क़ानून को अपना काम करना चाहिए।

लखीमपुर खीरी हत्याकांड : सुप्रीम कोर्ट ने लिया स्वता संज्ञान, सीजीआई के नेतृत्व में कल तीन सदस्यीय पीठ करेगी सुनवाई

“क्या आरोपी आम आदमी होता तो उसे इतनी छूट मिलती। SIT में सिर्फ स्थानीय अधिकारियों को रखा गया है। यह मामला ऐसा नहीं जिसे CBI को सौंपना भी सही नहीं रहेगा। हमें कोई और तरीका देखना होगा। डीजीपी सबूतों को सुरक्षित रखें। 20 अक्टूबर को (दशहरा की छुट्टी के बाद) सुनवाई होगी।”

loading...

यानी कोर्ट ने स्थानीय पुलिस की कार्यवाही से नाराजगी जताते हुए कहा कि (पुलिस वाले) सबूत ना मिटाने पाएं। अदालत ने यहां तक कहा की CBI जांच भी रास्ता नहीं है (और मामले की) वजह समझी जा सकती है।

loading...

लखीमपुर खीरी हिंसा: घटना का वीडियो आया सामने मंत्री का सफेद झूठ बेनकाब, अब तक 10 की मौत, पीड़ित ने सुनाई आपबीती तो मंत्री ने दी सफाई, किसानों प्रशासन के बीच सुलह…

विशाल गुप्ता की रिपोर्ट….

loading...