loading...

नई दिल्ली सोमवार 25 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन मोदी सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए कृषि कानून निरस्त विधेयक को पेश किया जाएगा इस मामले के जानकार कांग्रेसी नेताओं समेत अन्य दलों के नेताओं ने लोगों की चिंताओं को महत्वपूर्ण मानते हुए एकजुट होने की कोशिश करते हुए सरकार को घेरने के लिए योजना पूर्ण बैठक कर एक जूटता के लिए संकल्प जताया है कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दल सदन में विधेयक पर चर्चा करने को लेकर सरकार को घेरने की तैयारी कर ली है इसी कड़ी में कांग्रेस ने दोनों सदनों में 3 लाइन का व्हिप जारी कर सभी पार्टी के सांसदों को सोमवार को संसद में मौजूद रहने को कहा है।



वहीं राज्यसभा में विपक्ष के नेता मलिकार्जुन खड़गे ने सभी दलों के नेताओं को एकता की याद दिलाते हुए लिखा 29 नवंबर से शुरू होने वाले शीतकालीन सत्र में हम सभी के लिए महत्वपूर्ण है मैं सोमवार 27 नवंबर को राज्यसभा और लोकसभा में सभी बच्चे दलों के फ्लोर नेताओं की बैठक बुला रहा हूं ताकि एक बार फिर से महत्वपूर्ण मुद्दों को उठाने में एकजुट होकर काम किया जा सके।


लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा की चर्चा के विषय पर कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में निर्णय लिया जाएगा एक्शन सदी पदाधिकारी के मुताबिक केंद्र ने अभी तक सूचित नहीं किया है कि क्या वह निरस्त विधेयक पर बहस कराना चाहते हैं। या नहीं



भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार पर लगातार आंदोलनकारी किसानों का दबाव होने के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा की थी जिस को अमलीजामा पहनाने के लिए 1 दिसंबर दिन सोमवार को कृषि कानून विधेयक वापसी पास करके कानूनों को वापस लिया जाएगा वहीं इस सत्र में बीजेपी के पास 26 नई विधेयक सहित बड़ा एजेंडा है सरकार ने संकेत दिया है कि तीनों किसी विधेयक को निरस्त करके क्रिप्टो करेंसी निमिया व प्राइवेट क्रिप्टो करेंसी पर रोक समेत 26 विधायकों को पास कराने
का एजेंडा है

loading...