loading...

ट्रोजन वायरस के संभावित खतरे के मद्देनजर एंड्राइड फोन का प्रयोग करने वाले बैंक ग्राहकों को सावधान करते हुए भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम यानी CERT-IN ने साइबर अटैक की एडवाइजरी जारी की है जिसके मुताबिक भारतीय साइबर स्पेस में एक बैंकिंग ट्रोजन मालवेयर यानी ट्रोजन वायरस का पता चला है।

loading...

अगर आप एंड्राइड मोबाइल फोन के जरिए बैंकिंग का उपयोग करते हैं तो यह खबर आपके लिए जरूरी है ट्रोजन मालवेयर के संभावित खतरे के मद्देनजर देश की फेडरल साइबर सिक्योरिटी एजेंसी ने ताजी एडवाइजरी जारी करते हुए चेतावनी दी है कि भारतीय साइबर स्पेस में एक बैंकिंग वायरस यानी ट्रोजन मालवेयर का पता चला है जो एंड्राइड मोबाइल फोन का प्रयोग करने वाले बैंक के ग्राहक पर हमला करके चुपके से उनका डाटा चुरा कर बड़ी सेंध लगाने की क्षमता रखता हैं यह खतरनाक वायरस पहले ही 27 से ज्यादा पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के बैंकों को निशाना बना चुका है।

मंगलवार को सीईआरटी ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि यह मालवेयर इनकम टैक्स रिफंड फार्म की तरह दिख रहा है यह ग्राहक के डाटा की गोपनीयता को खतरे में डालते हुए गोपनीय तरीके से हमला कर वित्तीय धोखाधड़ी कर सकता है। एडवाइजरी के मुताबिक भारतीय बैंकिंग ग्राहकों को ड्रिनिक एंड्राइड मालवेयर के प्रयोग के द्वारा निशाना बना रहा है इस ने 2016 में एक SMS चोरी करने के रूप में शुरुआत कर हाल ही में एक बैंकिंग ट्रोजन के रूप में विकसित हो गया है जो फिसिंग स्क्रीन प्रदर्शित करते हुए यूजर की संवेदनशील बैंकिंग जानकारी को हासिल करते हुए फिशिंग के जरिए खाते की जानकारी इकट्ठी कर डुप्लीकेट सूचना तैयार करते हुए धोखाधड़ी को अंजाम देता है यह मालवेयर पहले भी भारत के 27 पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के बैंकों के ग्राहकों पर हमला कर निशाना बनाने में सफलता हासिल कर चुका है। भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम इन साइबर हमलों फिशिंग हैकिंग के ऑनलाइन हम लोग के खिलाफ साइबरस्पेस की रक्षा के लिए फेडरल टेक्नोलॉजी अलार्म है।

loading...