(संकेतिक तस्वीर स्कूल के बच्चे)

उत्तर प्रदेश मेरठ में कोविड-19 के मद्देनजर अजीब तरीके से 1 से लेकर आठवीं तक की वार्षिक परीक्षा करवाई जा रही है। परीक्षा में सबसे अजीब बात यह है कि आठवीं क्लास के बच्चों को 1 दिन में 5 सब्जेक्ट के पेपर देने होंगे, यानी हर सब्जेक्ट के लिए बच्चों को केवल आधा घंटा दिया गया है। खैर उससे भी अधिक चौंकाने वाली बात यह है कि कक्षा 1 से लेकर सातवीं तक के सारे सब्जेक्ट का कंबाइन पेपर होगा, जिसे एक से डेढ़ घंटे में बच्चे को देना होगा, पूरा मामला समझने के लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी मेरठ का अधिकारिक पत्र सब्जेक्ट स्कीम पत्र पढ़कर समझने की कोशिश करिएगा

खैरा परीक्षा के शेड्यूल भी देख लीजिए-

25 मार्च को कक्षा 1 व 2 के बच्चे 9:30 से 10:30 तक यानी 1 घंटे में समस्त विषयों के मौखिक पेपर देंगे।

कैसे ?

वही 25 मार्च को कक्षा 3 कक्षा 4 व कक्षा 5 के समस्त बच्चे 10:00 से 11:00 के बीच यानी कुल 1 घंटे में बहुविकल्पी के रूप में समस्त विषयों की परीक्षा देंगे ।

25 मार्च को कक्षा 6 व 7 के समस्त बच्चे 11:00 बजे से 12:30 बजे तक यानी कि डेढ़ घंटे में समस्त विषयों का कंबाइंड पेपर डेढ़ घंटे में अति लघु उत्तरीय के रूप में लिखित में देंगे ।

वही कक्षा आठवीं के बच्चे 25 मार्च को 1 दिन में आधा-आधा घंटे के अंतराल पर लगातार 6 विषयों के पेपर लिखित में देंगे।

वही दूसरे दिन यानी 26 मार्च को आठवीं के बच्चे, बचे हुए सभी प्रश्न पत्र के कुल 5 पेपर लगातार आधे-आधे घंटे के हिसाब से लिखित में देंगे।

(आठवीं के बच्चों को केवल बीच में आधे घंटे का इंटरवल मिलेगा)

खैर कोरोना काल में अधिकतर जगह पर बच्चों के पेपर ना करा कर उन्हें प्रमोट किया जा रहा है वहीं यूपी में बच्चों को पेपर करा कर पास करना उससे भी अच्छा है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यही उठता है जब यही सब करना था तो बेसिक शिक्षा पर अरबों रुपए खर्च क्यों किए गए ?

आखिर एक ही पेपर में 1 से 7 सातवीं क्लास का बच्चा एक से डेढ़ घंटे के अंदर कैसे सारे सब्जेक्ट को मिलाकर लिख पाएगा ?

क्या इसके लिए बच्चों को कोई स्पेशल ट्रेनिंग दी गई है ?

आठवीं का बच्चा 1 दिन में 5 बार सब्जेक्ट को कैसे मैनेज करेगा ?

उत्तर प्रदेश सीएम योगी का आदेश कक्षा 1 से 8 तक सभी परिषदीय व निजी स्कूलों में 24 मार्च से 31 मार्च तक होली अवकाश रहेगा।

शेष संस्थानों में 25 मार्च से 30 मार्च तक अवकाश रहेगा विवरण के लिए प्रेस नोट पढ़ने का कष्ट करें।

पत्रकार सचिन गुप्ता के टि्वटर से संभार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here