loading...

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से 5 महीना पहले योगी सरकार की दूसरी बार कैबिनेट विस्तार में सियासी जातिगत समीकरणों के हिसाब से सात मंत्रियों ने शपथ ग्रहण की है इनमें कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए जितिन प्रसाद समेत सभी ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली नए समीकरण के हिसाब से योगी की दूसरी कैबिनेट में तीन ओबीसी दो दलित एक एसटी और एक ब्राह्मण चेहरे को जगह दी गई है। प्रदेश की सियासत में जातिगत राजनीतिक समीकरण के लिहाज से अपने अपने क्षेत्र में सातों राज्य मंत्रियों का अहम योगदान है शायद 2022 में विधानसभा चुनाव में इसी समीकरण के बलबूते पर बीजेपी अपनी नैया को और मजबूती से पार लगाने की कोशिश करेगी।

इन 7 चेहरों को योगी की कैबिनेट में मिली जगह।

  1. जितिन प्रसाद (ब्राम्हण चेहरा)- कांग्रेस छोड़कर हाल ही में बीजेपी का दामन थामने वाले जितिन प्रसाद को बीजेपी ने अपनी कैबिनेट में जगह देते हुए मंत्री बनाया है जितिन प्रसाद अपने गृह क्षेत्र शाहजहांपुर की लोकसभा सीट से चुनाव जीते थे।
  2. पलटू राम (दलित चेहरा)- दलित समुदाय से आने वाले पलटू राम पहली बार 2017 में बलरामपुर से चुनाव जीत का विजय हुए थे।
  3. संजीव कुमार (अनुसूचित जाति) उत्तर प्रदेश के सोनभद्र ओबरा सीट से विधायक अनुसूचित जनजाति मोर्चा के अध्यक्ष आदिवासी समुदाय से आने वाले संजीव कुमार जनजाति वोट बैंक को अपनी खासी पकड़ रखते हैं।
  4. दिनेश खटीक (एससी) सोनकर समाज से आने वाले पश्चिम यूपी से मंत्री बने दिनेश खटीक मेरठ की हस्तिनापुर सीट से विधायक है।
  5. छत्रपाल गंगवार (कुर्मी) बरेली के बहेड़ी सीट से 65 वर्षीय विधायक छत्रपाल गंगवार रूहेलखंड मैं अपनी पकड़ और मजबूत करेंगे इनका मंत्री बनना एक समुदाय पर मजबूत पकड़ को मजबूत करना है)
  6. संगीता बिंद (ओबीसी) छात्र राजनीति सक्रिय रही 42 वर्षीय पिछड़ी जाति से आने वाली गाजीपुर सदर सीट से पहली बार विधायक संगीता बिंद ने चौथे नंबर पर शपथ ली है।
  7. धर्मवीर प्रजापति (ओबीसी) माटी कला बोर्ड की अध्यक्ष, पहली बार 2021 में विधानसभा परिषद के सदस्य बने हाथरस से आने वाले धर्मवीर प्रजापति सबसे आखरी में शपथ ग्रहण की है।
loading...

फोटो क्रेडिट सोर्स-बीजेपी शुभकामना संदेश

loading...