loading...

उत्तर प्रदेश के नोएडा में आयुष्मान भारत रोजगार योजना के नाम पर यूपी के 3,423 युवक-युवतियों से खेल तथा योग शिक्षक की नौकरी का झांसा देकर हाई प्रोफाइल ठगी का  मामला सामने आया है। ठगी गिरोह ने असली की तरह अभ्यर्थियों की लिखित परीक्षा ली और फिर  काउंसलिंग के नाम पर सभी से 500- 500 रुपये वसूले इसके बाद  प्रत्येक अभ्यर्थी से नियुक्ति पत्र देते हुए 1,55,000 ₹ लिए।

नोएडा के थाना फेस-3 के प्रभारी निरीक्षक विवेक त्रिवेदी के मुताबिक ( जिला )मऊ  निवासी श्वेता सिंह ने शिकायत दर्ज कराई है कि सेक्टर 63 में आयुष्मान भारत योग एवं प्रशिक्षण संस्थान है। इस एनजीओ के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जनपदों के लिए दिसंबर 2019 में 2,276 और 2021 में 1,147 शिक्षकों की भर्ती निकाली गई थी। शिकायत के मुताबिक उनकी तैनाती उनके गृह जनपद में ही होगी……

loading...


आवेदन शुल्क के नाम पर सामान्य  व ओबीसी से 380₹ व एससी/एसटी से 280₹ लिए गये इसके बाद  अभ्यर्थियों की लिखित परीक्षा ली और फिर  काउंसलिंग के नाम पर सभी से 500- 500 रुपये वसूले इसके बाद  प्रत्येक अभ्यर्थी से नियुक्ति पत्र देते हुए 1,55,000 ₹ लिए। जब अभ्यर्थियों ने स्कूलों में जाकर नियुक्ति-पत्र दिखाया तो पता चला कि यह फर्जी है। यानी ठगी का शिकार होने की जानकारी के बाद जब (उन्होंने ने) पैसे वापस मांगे गए तो जान से मारने की धमकी दी जाने लगी। इस मामले में वाराणासी, बलिया, लखनऊ, कन्नौज, मुरादाबाद, गाजियाबाद सहित विभिन्न जिलों के रहने वाले (अभ्यर्थी) लोग शिकार हुए हैं।

पूरे मामले की जांच एसीपी प्रथम अब्दुल कादिर को सौंपी गई। जांच के दौरान संदिग्धों को अपना पक्ष रखने के लिए कई बार पुलिस ने  बुलाया, लेकिन वह नहीं आए। इसके बाद रिपोर्ट को अपर पुलिस आयुक्त लव कुमार के पास भेज गया था। अब उनके द्वारा रिपोर्ट देखने के बाद संस्थान के चेयरमैन गाजियाबाद के दामोदर कुमार शर्मा , ट्रस्टी संजय चौधरी, प्रेजिडेंट साद अब्बासी, फाउंडर मेरठ मवाना के विपुल और टेक्निकल टीम के विनीत गुप्ता के खिलाफ धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है। एसीपी अब्दुल कादिर ने मुताबिक  पुलिस जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारियों के लिये  छापेमारी शुरु करेगी।

loading...