loading...

दुनिया के सबसे पुराने लोकतांत्रिक देश अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में जो बाइडेन ने शपथ ग्रहण की 78 साल के जो बाइडेन अमेरिका के सबसे अधिक उम्र दराज राष्ट्रपति है।

loading...

उनके साथ यूएस की पहली महिला उपराष्ट्रपति के तौर पर भारतीय मूल की कमला देवी हरीश ने मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स के सामने 12:00 बजे कैपिटल हिल के बेस्ट फ्रंट में शपथ ग्रहण की इस दौरान सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम थे।

अब्राहम लिंकन के बाद जो बाइडन की भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शपथ ग्रहण हुई। उनके शपथ ग्रहण के दौरान राजधानी वाशिंगटन डीसी में 25000 से अधिक नेशनल गार्ड्स के जवान सुरक्षा में मुस्तैद थे। यह सुरक्षा 6 जनवरी को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों द्वारा कैपिटल हिल पर हिंसा किए जाने के बाद बढ़ाई गई थी। राष्ट्रपति जो बाइडेन अपने परिवार की 127 साल पुरानी बाइबल के साथ शपथ ग्रहण की इस दौरान उनकी पत्नी जिल बाइडेन ने अपने हाथों में बाइबल को पकड़कर खड़ी थी।

loading...

56 वर्षीय कमला देवी हरीश बनी, अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति अमेरिका की 49वीं उपराष्ट्रपति के तौर पर भारतीय मूल की कमला देवी हरीश ने शपथ ग्रहण की और इसके साथ ही इतिहास रच दिया अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति के तौर पर शपथ ग्रहण करने वाली महिला बनी इसी के साथ दक्षिण एशियाई अमेरिकी अश्वेत उपराष्ट्रपति बन कर अपने नाम को इतिहास के पन्नों में दर्ज करा लिया उनके शपथ ग्रहण के लिए सुप्रीम कोर्ट की पहली लैट्रिन सदस्य न्यायमूर्ति सोनिया सोटोमेयर ने उन्हें संविधान की शपथ दिलायी।

loading...

सोनिया सोटोमेयर ने वर्ष 2013 में मौजूदा राष्ट्रपति जो बाइडेन को राष्ट्रपति के तौर पर शपथ दिलाई थी। उस समय उन्होंने अपने हाथों में अपने परिवारिक मित्रों के साथ दो बइबिल को लेकर शपथ ग्रहण की थी।

शपथ ग्रहण समारोह में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश, बिल क्लिंटन और बराक ओबामा मौजूद रहे, राजधानी वाशिंगटन डीसी के कैपिटल बिल्डिंग के बेस्ट फ्रंट में डेमोक्रेटिक नेता जो बिडेन को प्रधान न्यायाधीश जॉन रॉबर्टसन ने पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई कोविड-19 की वजह से इस समारोह में ज्यादा लोगों को आमंत्रित नहीं किया गया था। वहीं 6 जनवरी की हिंसा के मद्देनजर 25,000 से अधिक नेशनल गार्ड्स के जवान सुरक्षा में मुस्तैद थे।

राष्ट्रपति के तौर पर जो बइडेन ने अपने पहले भाषण में कहा कि अमेरिका का दिन है यह लोकतंत्र की जीत है और जश्न का समय है। भारतीय मूल की पहली अश्वेत अमेरिका की 49 वी उपराष्ट्रपति बन कर 56 वर्षीय कमला देवी हैरिस ने इतिहास रच दिया है हरीश सीनेट की पहली बार सदस्य बनी नवंबर में उन्होंने अपनी जीत के बाद ऐतिहासिक भाषण में अपनी दिवंगत मां श्यामाला गोपालन को याद करते हुए कहा था कि उन्होंने उनके राजनीतिक करियर में इस बड़े दिन के लिए तैयार किया था उन्होंने जीत के बाद अपने भाषण में कहा था वह उपराष्ट्रपति के पद पर पहली महिला हो सकती हैं लेकिन अंतिम नहीं होंगी। भारत के चेन्नई कैंसर के शोधकर्ता व नागरिक अधिकार की कार्यकर्ता के रूप में उनकी मां श्यामला गोपालन ने अमेरिका में ग्रेजुएशन की पढ़ाई के दौरान शादी के बाद वही शोध कार्य में अपना योगदान दिया।

राष्ट्रपति के रूप में जो बइडेन अमेरिकी लोगों से एकजुट होने की अपील करते हुए अमेरिका को और ताकतवर बनाने की प्रतिबद्धता दोहराते हुए अमेरिकी जनता को संबोधित कर कहा हर अमेरिकी की रक्षा करूंगा उन्होंने शपथ लेने के बाद अपने संबोधन में कहा कि यह किसी उम्मीदवार की जीत का जश्न नहीं लोकतंत्र की जीत का जश्न है हम मिलकर अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाएंगे हम अमेरिका की एकता के लिए प्रतिबद्ध है अमेरिका पहले से ज्यादा मजबूत होगा मैं लोकतंत्र और हर अमेरिकी की रक्षा करने का वादा करता हूं।

प्रधान मोदी ने ट्वीट कर दी बधाई-

विशाल गुप्ता की रिपोर्ट

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here