लखनऊ- यूपी सरकार ने प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय यानी उच्च शिक्षण संस्थान के ग्रेजुएशन पोस्ट ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं एक घंटे में कराने का फैसला किया गया है ये छात्र परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद अगली क्लास में प्रवेश पा सकेंगे।

जबकि ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन के फर्स्ट ईयर व सेकंड ईयर के सभी छात्रों को प्रमोट कर अगली क्लास में औसत अंकों के साथ भेजा जाएगा।

सरकार के आदेश से उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे 41 लाख छात्र अगली कक्षाओं में होगे प्रमोट

मंगलवार को प्रदेश के उपमुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने आदेश जारी करते हुए बताया कि प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग के सभी विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों के यूजी और पीजी के फर्स्ट ईयर सेकंड ईयर के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट किया जाएगा। बता दे इस फैसले का लाभ उत्तर प्रदेश के 41 लाख छात्रों को होगा वही यूजी और पीजी के लास्ट सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षाएं 3 घंटे के स्थान पर केवल 1 घंटे ने कराई जाएगी जिसका परिणाम सितंबर माह के पहले सप्ताह में दे दिया जाएगा। 17 सितंबर से नया शैक्षिक सत्र शुरू होगा।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी प्रेस रिलीज

सरकार द्वारा कोविड-19 नियमों का पालन कराते हुए परीक्षाएं कराई जाएगी जिसकी वजह से हवादार कमरे में समस्त कोविड-19 दिशा- निर्देशों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा। इसके मद्देनजर केंद्रों की संख्या में इजाफा करने का सरकार ने फैसला किया है। सरकार के मुताबिक कोविड-19 के बचाओ के नियमों को कड़ाई से लागू कराया जाएगा।

अगर संक्रमण के कारण कोई छात्र परीक्षा में शामिल नहीं हो पाता है तो उसे विशेष परीक्षा में शामिल होने के लिए अलग से अवसर दिया जा सकता है।

लखनऊ से विशाल गुप्ता की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here