loading...

16 अगस्त कि सुबह सुप्रीम कोर्ट के बाहर खुद को आग के हवाले करने वाली दुष्कर्म पीड़िता ने मंगलवार को दम तोड़ दिया है। बता दें 16 अगस्त की सुबह बलिया की रहने वाली पीड़िता ने 1 मई 2019 को वाराणसी के लंका थाने में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था पीड़िता का आरोप है कि मऊ जिले की घोसी सीट से बहुजन समाज पार्टी के सांसद अतुल राय ने सात मार्च 2018 को लंका स्थित अपने फ्लैट में पत्नी से मिलने के बहाने बुलाकर उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देते हुए अश्लील वीडियो बना लिया। पीड़िता कि तहरीर दर्ज होने के बाद पुलिस ने आरोपी सांसद अतुल राय पर शिकंजा कसा तो अंडर ग्राउंड होकर चुनाव जीतने के बाद सरेंडर कर दिया था इसके बाद वह नैनी की जेल में है। पीड़िता ने प्रशासन से तंग आकर आत्मघाती कदम उठाया। पीड़िता के मुताबिक सांसद अतुल राय ने पीड़िता पर ब्लैकमेल करने के आरोप लगाने के साथ गवाह गाजीपुर निवासी सत्यम राय समेत दोनों के खिलाफ 2 अगस्त को धोखाधड़ी के मामले में गैर जमानती वारंट जारी किया गया था।


https://vshindinews.com/varanasi-10/

loading...

16 अगस्त की सुबह जब पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह कर लिया तो इस मामले को लेकर दिल्ली से लेकर वाराणसी तक हड़कंप मच गया था। आत्मदाह की वजह से पीड़िता के साथी की पहले ही मौत हो चुकी है मंगलवार को पीड़िता ने दम तोड़ दिया।

वाराणसी उत्तर प्रदेश के मऊ जिले की घोशी से बसपा सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता ने कार्रवाई ना होने पर 16 अगस्त को दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के सामने अपने साथी सत्यम के साथ पहले सुप्रीम कोर्ट के गेट नंबर डी में घुसने की कोशिश की वैघ। कागज ना होने के चलते अंदर जाने से नाकाम होने पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर आत्महत्या करने के उद्देश्य से आत्मदाह कर लिया। जिसमें पीड़िता व उसके पैरोकार साथी घटना के गवाह सत्यम बुरी तरीके से जख्मी हो गए थे। 80 फ़ीसदी जल चुकी पीड़िता को डॉक्टर की तमाम कोशिशों के बावजूद बचाया नहीं जा सका यानी शनिवार को पीड़िता ने दम तोड़ दिया। बसपा सांसद अतुल राय के रसूख के चलते उन पर अब तक कोई कार्रवाई ना करने का आरोप लगाते हुए पीड़िता ने 16 अगस्त की सुबह सुप्रीम कोर्ट के गेट नंबर डी पर अपने साथी सत्यम के साथ फेसबुक लाइव कर। वाराणसी पुलिस के कुछ लोगों पर जबरन प्रताड़ित करने के आरोप लगाने के बाद आत्मदाह कर ली। पीड़िता व उसके साथी दोनों की गंभीर अवस्था में जलने की वजह से मृत हो चुकी है। रेप की गंभीर मामले में कार्यवाही ना करने के बाद घटित की घटना के बाद सुबे की योगी सरकार से लेकर वाराणसी पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया घटना के कुछ समय बाद फौरी कार्रवाई दिखाते हुए वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी रहे अमित पाठक को गाजियाबाद के डीआईजी के पद से हटाने के साथ ही वाराणसी के कैंट थाना प्रभारी राकेश सिंह और इस मामले की विवेचना कर रहे गिरजा शंकर यादव को निलंबित कर पूरे मामले की जांच 18 अगस्त दिन बुधवार को सरकार ने एसआईटी के हवाले कर दी थी जो 2 सप्ताह में अपनी रिपोर्ट शासन को भेजेगी।

क्या है सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह करने का मामला

बता दे मऊ जिले की घोसी लोकसभा सीट से बसपा के सांसद अतुल राय के खिलाफ बलिया की रहने वाली पीड़िता ने 1 मई 2019 को वाराणसी के लंका थाने में दुष्कर्म करने का गंभीर आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया था पीड़िता ने आरोप लगाते हुए तहरीर में बताया था कि सांसद अतुल राय ने 7 मार्च 2018 को उसे अपने लंका स्थिति फ्लैट में अपनी पत्नी से मिलने के बहाने बुलाकर उसके साथ जबरदस्ती करते हुए दुष्कर्म कर उसका वीडियो बनवा लिया। जब पीड़िता ने 1 मई 2019 को आरोपी सांसद के खिलाफ मामला दर्ज कराया तो पुलिस ने अतुल राय पर शिकंजा कसना शुरू किया उस समय आरोपी सांसद अंडर ग्राउंड होकर चुनाव में जीत हासिल करने के बाद सरेंडर कर देते हैं। इस समय सरेंडर किए बसपा सांसद अतुल राय नैनी जेल में बंद है। वही पीड़िता ने सांसद व प्रशासन की मिलीभगत से उसे प्रताड़ित करने के लिए मुख्य गवाह सत्यम राय समेत उस पर धोखाधड़ी करने का झूठा मामला दर्ज होने के बाद इस मामले में अदालत ने गैर जमानती वारंट 2 अगस्त को जारी किया था। जिसको लेकर पीड़िता दर-दर भटक कर न्याय मांगने के लिए सुप्रीम कोर्ट गई। वहां के गेट नंबर डी में वैध कागज वगैरह ना होने के चलते सुरक्षाबलों ने रोक दिया जिसके बाद 16 अगस्त की सुबह पीड़िता व उसके साथी ने ज्वलनशील पदार्थ डालकर खुद को आग के हवाले करते हुए आत्महत्या की कोशिश की कुछ समय बाद पीड़िता के साथी वह मुख्य गवाह गंभीर रूप से जलने की वजह से मौत हो गई। मंगलवार 24 अगस्त को 80 फीसदी जल चुकी पीड़िता को भी नहीं बचाया जा सका।

loading...

राजधानी दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह की घटना घटित होने के बाद दिल्ली से लेकर वाराणसी तक खलबली मच गई तमाम संगठनों के साथ राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी पूरी घटना का संज्ञान लेते हुए फौरी कार्रवाई की के तहत एसआईटी का गठन कर दिया है आयोग ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से इस मामले में जल्द रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा था।।

loading...